BBC World Service LogoHOMEPAGE | NEWS | SPORT | WORLD SERVICE DOWNLOAD FONT | Problem viewing?
BBCHindi.com

पहला पन्ना
भारत और पड़ोस
खेल और खिलाड़ी
कारोबार
विज्ञान
आपकी राय
विस्तार से पढ़िए
हमारे कार्यक्रम
प्रसारण समय
समाचार 
समीक्षाएं 
आजकल 
हमारे बारे में
हमारा पता
वेबगाइड
मदद चाहिए?
Sourh Asia News
BBC Urdu
BBC Bengali
BBC Nepali
BBC Tamil
 
BBC News
 
BBC Weather
 
 आप यहां हैं: 
 ताज़ा समाचार
शनिवार, 19 जुलाई, 2003 को 01:01 GMT तक के समाचार
बेस्ट बेकरी कांड से उठते सवाल
गुजरात में हुए दंगों में एक हज़ार से भी अधिक लोग मारे गए थे
गुजरात में हुए दंगों में एक हज़ार से भी अधिक लोग मारे गए थे



गुजरात की सड़क पर खड़े होकर आप अगर अपने चारों और नज़र दौड़ाएं तो ऐसा लगेगा मानो पिछले साल के सांप्रदायिक दंगों के बाद अब सबकुछ सामान्य हो गया है.

मगर सच्चाई ये नहीं है.बीस साल की ज़ाहिरा और उसके जैसे कुछ दूसरे लोगों के लिए गुजरात वह जगह नहीं है जहाँ वो बिना किसी डर के रह सकें.

ज़ाहिरा और उसके जैसे कुछ अन्य लोग अदालत के सामने भी सच बोल पाने का हौसला नहीं जुटा पा रहे हैं.

ज़ाहिरा बेस्ट बेकरी केस में प्रमुख गवाह थी.

वडोदरा के निकट 12 लोगों को जलाकर मारने के इस मामले में सभी 21 मुलज़िमों को 21 जून को बरी कर दिया गया.

कारण – 71 में से 45 गवाहों ने अदालत में अपने बयान बदल डाले.अदालत में इन सभी 45 गवाहों ने एक-सी वो कहानी सुनाई जो पुलिस के सामने दिए गए उनके बयान से बिल्कुल अलग थी.

बयान क्यों बदले


मैंने बयान बदलकर बहुत ग़लत किया.आज उन्होंने जो हमारे साथ किया वो कल और किसी के साथ भी कर सकते हैं क्योंकि अब वे डरेंगे नहीं

ज़ाहिरा
उनके बयानों के बाद अदालत का फ़ैसला क्या होगा इसका अंदाज़ तो सबको था मगर ये जानने की कोशिश किसी ने नहीं की कि गवाह एक-एक कर बयान क्यों बदल रहे थे.

मगर अब सामाजिक संगठनों की कोशिश से सनसनीखेज बातें सामने आ रही हैं.

ज़ाहिरा ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के एक विधायक मधु श्रीवास्तव ने इन लोगों को धमकी दी थी जिसके कारण ही सबने अदालत में बयान बदल डाले.

मगर मधु श्रीवास्तव इस आरोप से इनकार करते हैं.

वे कहते हैं,”मैंने अपने 50 साल के जीवन में किसी को कोई धमकी नहीं दी है.मैं तो इस महिला को जानता भी नहीं “.

उधर ज़ाहिरा अब बयान बदलने के लिए अफ़सोस कर रही है.

वह कहती है,”मैंने बहुत ग़लत किया.आज उन्होंने जो हमारे साथ किया वो कल और किसी के साथ भी कर सकते हैं क्योंकि अब वे डरेंगे नहीं“.

मानवाधिकार आयोग


मानवाधिकार आयोग ने इस मामले के रिकॉर्डों की जाँच से पहले ही इस फ़ैसले को ग़लत घोषित कर दिया

यतीन ओझा
भारत के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बेस्ट बेकरी मामले पर अदालत के निर्णय पर गहरा असंतोष जताया है.उल्लेखनीय है कि आयोग ने पिछले साल ये सुझाव दिया था कि बेस्ट बेकरी समेत पाँच मामलों की जाँच केंद्रीय एजेंसी से करवाई जानी चाहिए.

फ़ैसले के बाद भी आयोग का एक दल इस मामले से संबंधित पुलिस और अदालती रिकॉर्ड लेने अहमदाबाद और वडोदरा आया था.

मगर आयोग के इस रूख़ पर कुछ तबके आपत्ति जता रहे हैं और उनको लगता है कि आयोग अदालत की स्वायत्तता में दखल दे रहा है.

अहमदाबाद उच्च न्यायालय के वकीलों के एक संगठन ने पिछले दिनों एक प्रस्ताव पारित कर मानवाधिकार आयोग और मीडिया की आलोचना की है और कहा है कि अगर ये हस्तक्षेप बंद नहीं करते तो उनके ख़िलाफ़ अदालत की अवमानना का मुक़दमा चलाया जाएगा.

इस संगठन के अध्यक्ष यतीन ओझा कहते हैं,”आयोग ने इस मामले के रिकॉर्डों की जाँच से पहले ही इस फ़ैसले को ग़लत घोषित कर दिया“.

भविष्य


सुप्रीम कोर्ट में अपील कर इस मामले को किसी और राज्य के उच्च न्यायालय में स्थानांतरित करवा लेना चाहिए जहाँ गवाह बता सकते हों कि उन्होंने किन हालात में बयान बदले थे

जस्टिस बी जे दीवान
मानवाधिकार कार्यकर्ता मानते हैं कि ऐसी स्थिति में बेस्ट बेकरी मामले का दोबारा खुलना अनिवार्य है.

मूवमेंट ऑफ़ सेकुलर डेमोक्रेसी नामक संगठन के कार्यकर्ता डी एन रथ का कहना है कि अगर बेस्ट बेकरी का मामला एक परंपरा जैसा बन जाता है तो इससे बाकी मामलों पर भी असर पड़ेगा.

वे कहते हैं, “लोगों के मन में अब ऐसी शंका है कि बाकी के जो चार मामले हैं उनमें क्या होगा“.

कुछ विधि विशेषज्ञों का कहना है कि बेस्ट बेकरी कांड में गुजरात सरकार का उच्च न्यायालय में अपील करना अनिवार्य है क्योंकि इसके बग़ैर पीड़ितों को न्याय मिलने की संभावना नहीं है.

गुजरात उच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश रह चुके जस्टिस बी जे दीवान कहते हैं,”सुप्रीम कोर्ट में अपील कर इस मामले को किसी और राज्य के उच्च न्यायालय में स्थानांतरित करवा लेना चाहिए जहाँ गवाह बता सकते हों कि उन्होंने किन हालात में बयान बदले थे“.

मगर गुजरात सरकार ने अबतक ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है कि वो क्या करनेवाली है.सरकारी तौर पर केवल यही कहा गया है कि गृहमंत्रालय फ़ैसले का विश्लेषण कर रहा है.

मगर राज्य की सत्ताधारी पार्टी भाजपा अपील के पक्ष में नहीं है और उनका कहना है कि गवाहों को अदालत में ही बताना चाहिए था कि उन्हें धमकाया गया.

भाजपा नेता प्रफुल्ल वोरडिया कहते हैं,”अपील नहीं की जानी चाहिए क्योंकि इससे तो यही लगेगा कि सरकार को अदालत में भरोसा नहीं है.तो लोकतंत्र के लिए तो ये अच्छा नहीं होगा“.

सवाल


कोई मेरा साथ देने को तैयार नहीं था.किसी ने मेरे बारे में नहीं सोचा

ज़ाहिरा
वैसे एक विवादास्पद सवाल ये भी उठता है कि न्याय ना मिल पाने की स्थिति के लिए ज़िम्मेदार कौन है.

जैसे ज़ाहिरा बताती है कि उसके अपने ही समुदाय के लोगों ने उसका साथ नहीं दिया.

जाहिरा का कहना है,”कोई मेरा साथ देने को तैयार नहीं था.किसी ने मेरे बारे में नहीं सोचा“.

मामले में सरकारी वकील की भूमिका पर भी उंगलियाँ उठ रही हैं.

वडोदरा बार काउंसिल के अध्यक्ष नरेंद्र तिवारी मानते हैं,”उनकी ज़िम्मेदारी थी कि पुलिस का बयान गवाह को सुनाकर सवाल पूछें मगर सरकारी वकील ने ऐसा नहीं किया“.

यहाँ सवाल ये उठता है कि फिर जो लोग मारे गए उसका दोषी कौन है.और ऐसे में अदालत की भूमिका के बारे में बातें उठती हैं.

जस्टिस दीवान मानते हैं,”न्यायपालिका असफल नहीं है समाज असफल हो रहा है.अभियुक्तों को सज़ा ना दिलवा पाने के लिए सामाजिक दबाव ज़िम्मेदार है “.

अन्य मामले


न्यायपालिका असफल नहीं है समाज असफल हो रहा है.अभियुक्तों को सज़ा ना दिलवा पाने के लिए सामाजिक दबाव ज़िम्मेदार है

जस्टिस बी जे दीवान
बेस्ट बेकरी मामले से गुजरात की स्थिति को लेकर कई और सवाल उठते हैं.

एक सवाल तो ये है कि इस मामले का मुक़दमा वडोदरा जैसे बड़े शहर में चला जहाँ मीडिया की मौजूदगी थी और इसलिए मामला प्रकाश में आ गया.मगर दूसरे मामलों के साथ क्या हो रहा है.

इससे पहले केडियाड मामले में 70 से भी ज़्यादा लोगों को मारने के अभियुक्त निर्दोष साबित हुए थे.ये मामला सुर्खियों में नहीं आ पाया क्योंकि ये जगह पंचमहल ज़िले में था और तब गुजरात में चुनाव भी थे जिसकी शोरगुल में मामला दब गया.

मगर अब विभिन्न तबकों से आवाज़ उठ रही है कि बाक़ी मामलों को भी बेस्ट बेकरी की राह पर जाने से रोका जाए इसके लिए क़दम उठाए जाएँ.

फ़िलहाल लोगों का ध्यान इस बात पर लगा है कि गुजरात सरकार का अगला क़दम क्या होता है.

गोधरा घटना और दंगे


गोधरा कांड के अभियुक्तों पर पोटा के तहत मुक़दमा चल रहा है
गोधरा में ट्रेन में आग लगाकर 58 लोगों को ज़िंदा जलाने के मामले में बनाए गए अभियुक्तों पर आतंकवाद निरोधक क़ानून यानी पोटा के तहत मुक़दमा चलाया जा रहा है.

मगर गोधरा कांड के बाद हुए दंगों में शामिल अभियुक्तों पर पोटा नहीं लगाया गया है.

इसी तरह दंगों के अधिकतर अभियुक्तों को ज़मानत मिल गई है मगर गोधरा कांड के 131 अभियुक्तों में से केवल 13 को ही ज़मानत मिल सकी है.
 
 
अन्य ख़बरें
09 जुलाई, 2003
'अवमानना का मुक़दमा करेंगे'
08 जुलाई, 2003
बेस्ट बेकरी काँड की जाँच
08 जुलाई, 2003
'भाजपा नेताओं ने धमकाया'
04 जुलाई, 2003
'बेकरी कांड फ़ैसले की जाँच'
27 जून, 2003
बेकरी कांड के अभियुक्त बरी
इंटरनेट लिंक्स
गुजरात सरकार
बीबीसी अन्य वेब साइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है
ताज़ा समाचार
बग़दाद में दो अमरीकी मरे
फ़लस्तीन में फिर सत्ता संघर्ष?
हेडेन ने तोड़ा लारा का रिकॉर्ड
नाथन एस्टल ने शतक बनाया
तस्वीर भेजी और चकमा दिया
पूर्व गोरखा सैनिक मुक़दमा हारे
कैदियों के हक में उठी आवाज़







BBC copyright   ^^ हिंदी

पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल और खिलाड़ी
कारोबार | विज्ञान | आपकी राय | विस्तार से पढ़िए
 
 
  कार्यक्रम सूची | प्रसारण समय | हमारे बारे में | हमारा पता | वेबगाइड | मदद चाहिए?
 
 
  © BBC Hindi, Bush House, Strand, London WC2B 4PH, UK