क्या-क्या करता है रेलवे ट्रैक मैन?

22 जुलाई 2014 अतिम अपडेट 12:31 IST पर

डेढ़ लाख किलोमीटर से भी ज़्यादा लंबा भारतीय रेलवे ट्रैक इनके कंधों पर रहता है.जानिए कैसे...
ट्रैक मैन
एक ट्रैक मैन की नौकरी का ज़्यादा समय रेल के ट्रैक के किनारे काम करते गुज़रता है
ट्रैक मैन
ट्रैक मैन ही अक्सर रेलवे की भारी पटरियों को उठाने का काम करते है.
ट्रैक मैन
रामदीन बताते हैं कि उनको काम करते 20 साल हो गए और इस दौरान कई बार उनको शहर से दूर वीरान इलाक़ों में लाइन के किनारे रुकना पड़ा जहाँ पीने का पानी भी अक्सर नहीं मिलता.
ट्रैक मैन
प्वॉइन्ट मैन का काम करने वाले प्रसाद बताते हैं कि रेलवे ट्रैक में पहले सारे सिग्नल मैनुअल ही काम करते थे जिसके लिये ट्रैक के पास जा कर ही उसे डाउन करना पड़ता था. पर अब काफ़ी सिग्नल ऑटोमेटिक बना दिए गए हैं.
ट्रैक मैन
अरविंद बताते हैं कि उनका एक पैर नहीं है और उनको ट्रैक पर काम करने के दौरान परेशानी होती है पर कई बार अधिकारियों से बात करने पर भी कोई सुनवाई नहीं हुई.
ट्रैक मैन
काम के दौरान अक्सर ट्रेन का आना जाना रहता है और बहुत सावधानी रखनी होती क्योंकि एक ग़लती के कारण हज़ारों ज़िंदगियाँ ख़तरे में पड़ सकती हैं.
ट्रैक मैन
बच्चीलाल लाल बताते हैं कि अब मशीनों के उपयोग ने काम को आसान कर दिया है पर ट्रैक पर काम करने लिए गर्मी, बरसात और ठंड हर मौसम का सामना अभी भी करना होता है.
ट्रैक मैन
अभी भी छोटे स्टेशनों पर ट्रैक को हाथ से ही बदला जाता है जबकि बड़े स्टेशनों पर ट्रैक ऑटोमेटिक ही बदले जाते हैं.
ट्रैक मैन
ट्रैक पर लगे हर बोल्ट को चेक करना भी ज़रुरी होता है जिसके लिए समय समय पर रख-रखाव किया जाता रहता है.
ट्रैक मैन
अब्दुल बताते हैं कि जब भी रेलवे की उपलब्धि की बात होती है तो उनके काम के योगदान की कोई बात नहीं करता जबकि रेल को आगे बढ़ाने में ट्रैक मैन का बड़ा योगदान होता है. (सभी तस्वीरें: अंकित श्रीनिवास)