BBC navigation

पेड़ पर उगने वाला रसगुल्ला

 मंगलवार, 17 जून, 2014 को 13:10 IST तक के समाचार

तस्वीरों में: मुज़फ़्फ़रपुर की लीची

  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    बिहार का मुज़फ़्फ़रपुर ज़िला लीची के बाग़ों के लिए प्रसिद्ध है. यहाँ की लीची पूरे देश में मशहूर है.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    लीची तोड़ने के लिए कई बार बच्चों से मदद ली जाती है. लीची की नाजुक टहनियां बच्चों का कम वजन ज़्यादा आसानी से सह लेती हैं.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    पेड़ से तोड़ी गई लीचियों को बोरे की झोलियों में बांध कर कुछ इस तरह नीचे उतारा जाता है.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    इस साल देर से हुई बारिश के कारण लीची कम रसीली ही रह गई और इसका आकार भी छोटा ही रहा गया.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले में लीची को पेड़ पर उगने वाला रसगुल्ला भी कहा जाता है.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    लीचियों को तोड़ने के बाद छांटकर गत्ते के डिब्बों में पैक किया जाता है और फिर इसे देश की विभिन्न फल मंडियों के लिए भेजा जाता है.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    लीची के बगीचों में दूर-दूर से फल के व्यापारी आते हैं. तस्वीर में कोलकाता के व्यापारी अजय सोनकर लीची के डिब्बों के साथ दिखाई दे रहे हैं. अजय बंगलौर, चेन्नई, जयपुर, अहमदाबाद जैसे शहरों में लीची भेजा करते हैं. लीची भेजने के लिए सड़क, रेल और हवाई यातायात का भी प्रयोग किया जाता है.
  • बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में लीची के बाग़
    लीची की मौसम में लगभग एक महीने तक बगीचों की रखवाली की जाती है. और इस दौरान बगीचा ही रखवाली करने वालों का घर-आंगन बन जाता है.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.