ज़ायके के ज़रिए अमन का पैग़ाम

15 मई 2014 अतिम अपडेट 13:59 IST पर

भारत और पकिस्तान सीमा से सिर्फ़ डेढ़ किलोमीटर दूर है 'सरहद' रेस्टोरेंट जो 'इस पार' और 'उस पार' की साझा पंजाबी तहजीब की जीती जागती धरोहर के रूप में खड़ा है.
सरहद रेस्त्रां
भारत और पाकिस्तान सीमा से सिर्फ़ 1.5 किलोमीटर की दूरी पर है 'सरहद' रेस्टोरेंट जो 'इस पार' और 'उस पार' की साझा पंजाबी तहज़ीब की जीती जागती धरोहर के रूप में खड़ा है. (सभी तस्वीरें: बीबीसी संवाददाता सलमान रावी)
सरहद रेस्त्रां
कमाल की बात यह है कि 'सरहद' रेस्टोरेंट अमृतसर से 28 किलोमीटर की दूरी पर है जबकि ये लाहौर से ज़्यादा क़रीब है. लाहौर से सरहद रेस्टोरेंट की दूरी 22 किलोमीटर है.
सरहद रेस्त्रां
इस रेस्टोरेंट की ख़ास बात ये है कि इसका नक्शा और वास्तुकला पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के लाहौर की जामा मस्जिद जैसी है, जबकि इसके फ़र्श में जिन टाइलों का इस्तेमाल किया गया है वो अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में इस्तेमाल की गईं टाइलों जैसी है.
सरहद रेस्त्रां
साज सज्जा में एक और ख़ास बात है. यहां बावर्चीखाने की दीवारों पर पकिस्तान की 'ट्रक हस्तकला' का इस्तेमाल किया गया है. लाहौर के रहने वाले नामी कलाकार हैदर अली ने ख़ुद यहां आकर इन्हें बनाया है.
सरहद रेस्त्रां
'सरहद' रेस्टोरेंट के मालिक अमन जसपाल का कहना है कि उनका उद्देश्य दोनों तरफ़ की पंजाबियत को प्रोत्साहित करना है.
सरहद रेस्त्रां
विभाजन से पहले पूरा पंजाब एक हुआ करता था. और 'सरहद' में विभाजन के पहले के अख़बार भी लगाए गए हैं जिससे अविभाजित भारत के इस इलाक़े के बारे में महत्वपूर्ण ख़बरें पढ़ने को मिलती हैं.
सरहद रेस्त्रां
इस रेस्टोरेंट में बनने वाले व्यंजन भी बिलकुल अलग हैं. यहां पर 'लाहोरिया' व्यंजन या फिर पकिस्तान के पंजाब के व्यंजन काफ़ी लोकप्रिय हैं. इन व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाले मसाले भी लाहौर से ही मंगाए जाते हैं.
सरहद रेस्त्रां
'सरहद' रेस्टोरेंट, दोनों तरफ़ के पंजाब के पारंपरिक पकवानों का एक ऐसा ठिकाना बन गया है जहां अब दूर दूर से लोग आने लगे हैं.
सरहद रेस्त्रां
खाने के अलावा पाकिस्तानी फ़ैशन डिजाइनरों के तैयार किए गए कपड़ों को भी यहाँ रखा गया है.
सरहद रेस्त्रां
रेस्टोरेंट के मालिक अमन का कहना कि सरहद रेस्टोरेंट को वो सिर्फ़ एक ढाबा नहीं बल्कि 'अमन का एक संग्रहालय' बनाना चाहते हैं.