BBC navigation

धींगा गवरः एक उत्सव स्त्रियों के नाम

 मंगलवार, 22 अप्रैल, 2014 को 19:16 IST तक के समाचार
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    राजस्थान में गणगौर का त्यौहार चैत्र के प्रारंभ में शुरू होता है और 16वें दिन गणगौर की सवारी और मेले के साथ संपन्न होता है. शिव और पार्वती को समर्पित यह पर्व नव विवाहिताओं के लिए बेहद ख़ास माना जाता है.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    लेकिन धींगा गवर यानी गणगौर का मस्त स्वरूप यदि देखना है तो आना होगा जोधपुर. चैत्र से प्रारंभ होकर एक माह की गौर पूजा के समापन पर वैशाख तृतीया को (अप्रैल महीने में ) मनाए जाने वाले धींगा गवर उत्सव का केंद्र महिलाएँ ही होती हैं.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    धींगा गवर की पूरी रात गवर की पूजा, आराधना, आनंद और उत्सव का समय है. गहनों से लकदक और श्रृंगारित गवर इस जलसे का मुख्य आकर्षण होती हैं.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    और इस मौके पर महिलाओं का जुलूस निकलता है विभिन्न वेशभूषा और परिधानों में सजकर. कोई काली तो दुर्गा का रूप धरती हैं तो है कोई शिव पार्वती का तो कोई कृष्ण का और कोई ब्रह्म रूप में दिखाई देता है या फिर महाभारत के किसी किरदार के.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    इस उत्सव में पुरुषों को शरीक होने की इजाज़त नहीं होती है. इस जुलूस में शामिल होने की कोशिश करने पर महिलाओं के हाथ की छड़ी की हल्की सी मार उन्हें सहनी पड़ती है.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    वैसे युवक इस छड़ी यानी 'खेम खुसल' की मार खाने को बहुत ही बेताब रहते हैं क्योंकि ऐसी मान्यता है कि मार खाने के बाद जल्दी ही शादी हो जाती है.
  • राजस्थान में धींगा गवर उत्सव
    इस प्रतीकात्मक पर्व के कई अर्थ लगाए जाते हैं. कुछ के अनुसार यह महिलाओं को एक पर्व अपनी आज़ादी से, अपनी कल्पनाओं के हिसाब से मनाने देने का दिन है तो कुछ के अनुसार यह वस्तुतः शक्ति का आह्वान कर बुरी आत्माओं को बाहर करने का पर्व है. ताकि हर रोज़ शान्ति और आनंद का पर्व रहे. सभी तस्वीरें फोटो पत्रकार रामजी व्यास ने बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिए भेजी हैं और आलेख लिखा है स्थानीय पत्रकार आभा शर्मा ने.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.