BBC navigation

क्या इन चुनावों में पकेगी मायावती की खिचड़ी?

 रविवार, 23 मार्च, 2014 को 23:21 IST तक के समाचार

मीडिया प्लेयर

मायावती ने भले ही साल 2009 में सपा से मात खाई हो पर इन चुनावों में उनकी तैयारी ज़ोरों पर है. क्या उनकी उम्मीद की खिचड़ी पक पाएगी. मधुकर उपाध्याय का विश्लेषण.

सुनिएmp3

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव मायावती को 'लोकतंत्र का चमत्कार' कहते थे और अर्थशास्त्री स्वामीनाथन अय्यर सर्वोच्च प्रशासनिक पद को लेकर कहते हैं कि अगर ऐसा हुआ तो बहनजी 'एक बेहतरीन प्रधानमंत्री' साबित होंगी.

मायावती के जीवनीकार अजय बोस एक क़िस्सा बयान करते हैं. मायावती भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाना चाहती थीं, आईएएस बनना चाहती थीं. उसी दौरान कांशीराम उनके घर आए और कहा....छोड़ो ये सब. मैं तुम्हें इतना बड़ा नेता बना दूंगा कि आईएएस पंक्तिबद्ध होकर तुम्हारे सामने खड़े होंगे.

इस घटना के कुछ ही समय बाद मायावती संसद पहुंच गईं. सन् 1989 में.

तीन बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं मायावती का संसद में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 21 सीटों का रहा है. ये पिछले चुनाव की बात है, जिसमें उन्हें 20 सीटें, 80 लोकसभा सीट वाले राज्य उत्तर प्रदेश से मिली थीं और एक मध्य प्रदेश से.

दिल्ली में किसी बड़ी भूमिका के लिए उन्हें ये प्रदर्शन बेहतर करना होगा. मायावती इस बार अपने दम पर अकेले चुनाव लड़ रही हैं और उन्होंने उम्मीद का दामन पकड़ रखा है.

मायावती ने भले ही साल 2009 में सपा से मात खाई हो पर इन चुनावों में उनकी तैयारी ज़ोरों पर है. क्या उनकी उम्मीद की खिचड़ी पक पाएगी? मधुकर उपाध्याय का विश्लेषण.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.