जाने किसकी नज़र लगी इस जन्नत को...

3 फरवरी 2014 अतिम अपडेट 17:42 IST पर

अफ़्रीकी देश माली में इन दिनों उथल पुथल का माहौल दिख रहा है. वहां का पर्यटन उद्योग और देश के एक बड़े हिस्से में लोग बदहाली का सामना कर रहे हैं.
माली, टॉमी ट्रेंचार्ड
पश्चिमी अफ़्रीकी देश माली एक समय दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता था. यहां के ख़ूबसूरत लैंडस्केप और ख़ास विरासत की दुनिया भर में चर्चा होती थी. देश में पर्यटन उद्योग के चलते हजारों लोगों को रोजगार मिला हुआ था. इस देश में धीरे धीरे कैसे पर्यटन उद्योग संकट में आ गया, इसे फ़ोटोग्राफ़र टॉमी ट्रेंचार्ड ने अपने काम का विषय बनाया है.
डिज़ने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
पहले पर्यटकों के अपहरण, फिर तख़्तापलट और सेना के विद्रोह के बीच फ्रेंच सैनिकों की घुसपैठ के बाद माली का पर्यटन उद्योग पूरी तरह चौपट हो गया. ये तस्वीर माली के शहर डिजेने की है जो यूनेस्को की वर्ल्ड विरासत सूची में शामिल है और यहां मिट्टी से बने सबसे ज़्यादा मस्जिद हैं.
 टॉमी ट्रेंचार्ड
कभी डिजेने में काफी पर्यटक पहुंचते थे लेकिन अब यहां के होटल, रेस्टोरेंट और कला बाज़ार सूने सूने दिखते हैं. स्थानीय लोगों के मुताबिक पहले शहर में हर दिन छह सौ पर्यटक पहुंचते थे. बीबीसी ने जब दिसंबर में माली के इस शहर का दौरा किया था तो उस उसे महज दो विदेशी पर्यटक दिखाई दिए थे.
 टॉमी ट्रेंचार्ड
बाबा मैगा यहां अपना रेस्टोरेंट चलाते थे. लेकिन जब से पर्यटकों का आना बंद हुआ है, उनके इस बिना छत वाले रेस्टोरेंट में सन्नाटा पसरा हुआ है. वे बताते हैं कि पर्यटन के ठप होने से यहां के लोगों के सामने आजीविका का संकट आ गया है.
टॉमी ट्रेंचार्ड
अगर माली की स्थिति नहीं बिगड़ती तो यह मौसम पर्यटन के लिहाज से बेहद व्यस्त होता है. बाबा ही नहीं डिजेने शहर के दूसरे होटलों में भी तीन दिनों से कोई पर्यटक नहीं आया है. एक टूअर गाइड ने गुस्से में कहा, " कोई उनसे कहे कि यहां कोई विद्रोही नहीं रहता."
डिजेने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
बांदीगारा के आसपास के गाँवों में रहने वाले डोगोन समुदाय के लोगों पर इसकी सबसे ज़्यादा मार पड़ी है. उनकी संस्कृति पर्यटकों में सबसे ज़्यादा आकर्षण पैदा करती थी.
डिजेने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
स्थानीय कारीगर अमाडो गूंडियो बताते हैं कि अब लोगों के लिए जीवनयापन मुश्किल हो रहा है. उनके मुताबिक लगातार कम होती बारिश के चलते यहां खेती किसानी भी मुश्किल काम है.
डिजेने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
अमागाली गूंडियो बीते 12 साल से परंपरागत कपड़े तैयार करते रहे हैं. अब उन्हें कपड़े बेचने के लिए दूर दराज के शहर और कई बार तो राजधानी बामाको जाना पड़ता है. इसमें होने वाले खर्च के चलते उनका मुनाफा बेहद कम रह गया है.
डिजेने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
पर्यटन ख़त्म होने का असर समाज के सभी हिस्सों पर पड़ा है. विदेशी पर्यटक जिनेबा ल्यूक से केक खरीद कर स्थानीय बच्चों में भी बांट देते थे. पैसों की कमी से अब बाज़ार भी उजड़ता दिख रहा है.
डिजेने,  टॉमी ट्रेंचार्ड
माली के उत्तर में अभी भी अशांति की स्थिति बनी हुई है. ब्रिटिश सरकार ने देश के डिजेने, डोगोन और ऐतिहासिक मरुस्थल वाले शहर टिम्बकटू की यात्रा करने से लोगों को मना किया है.