कलाशनिकोफ़: अलगाववादियों से फौज तक, सबकी पसंद

24 दिसंबर 2013 अतिम अपडेट 17:52 IST पर

कलाशनिकोफ़ या जिसे आम तौर पर एके-47 के नाम से जाना जाता है हथियार का इस्तेमाल करने वालों में बेहद लोकप्रिय है. इसके आविष्कारक रूस के मिखाइल कलाशनिकोफ़ थे.
कलाशनिकोफ़
अफग़ानिस्तान की जंग के दौरान अब्दुर रशीद दोस्तम की फौज में शामिल बच्चे.
कलाशनिकोफ़
सीरिया की फ़ौज की 1993 की जंगल में गश्त.
कलाशनिकोफ़
अफ़्रीकी देश कांगो में यूनियन ऑफ़ कांगोलीज़ की सेना में बच्चों के पास कलाशनिकोफ़.
कलाशनिकोफ़
इराक़ के शहर फलूजा में ये तस्वीर तेरह जून साल 2003 में ली गई थी.
कलाशनिकोफ़
भारत प्रशासित कश्मीर में मौजूद अलगाववादी संगठन के कुछ लोग.
कलाशनिकोफ़
सीरिया में एक बाग़ी फौज से निकल भागने की कोशिश करता हुआ.
कलाशनिकोफ़
अफ़्रीका के अलग-अलग देशों में मौजूद हथियार बंद गिरोहों में भी कलाशनिकोफ़ बेहद लोकप्रिय है.
कलाशनिकोफ़
औरतें भी इसका इस्तेमाल आसानी से कर लेती हैं.
कलाशनिकोफ़
पाकिस्तान में अफ़ग़ानिस्तान में हुए रूसी हमले के पहले कलाशनिकोफ़ के बारे में कोई जानता भी नहीं था.
कलाशनिकोफ़
कलाशनिकोफ़ बुनियादी तौर पर रूसी फौज के लिए बनाई गई थी लेकिन बाद में ये सिक्यूरिटी पर्सनल से लेकर फौजों और अलगाववादी हथियारबंद गुटों सभी में लोकप्रिय हो गईं.
कलाशनिकोफ़
अल-क़ायदा के पूर्व प्रमुख ओसामा बिन लादेन कलाशनिकोफ़ के साथ.
कलाशनिकोफ़
जॉर्डन में कलाशनिकोफ़ का प्रशिक्षण.
कलाशनिकोफ़
ये तस्वीर साल 2005 की है. इराक़ की फौज में शामिल जवान ट्रेनिंग हासिल कर रहे हैं.
कलाशनिकोफ़
लीबिया के बनी वलीद में एक फौजी हवाई फ़ायरिंग कर रहा है.
कलाशनिकोफ़
कलाशनिकोफ़ जंग का एक अहम हथियार है.
कलाशनिकोफ़
बहुत ही आसान हथियार बताए जाने वाले कलाशनिकोफ़ की देखभाल में ज्यादा वक्त नहीं लगता.
कलाशनिकोफ़
दर्जनों मुल्कों की फौज अब इस हथियार का इस्तेमाल कर रही हैं.
कलाशनिकोफ़
इसका ईजाद करने वाले का कहना था कि इसे उन्होंने रूस की रक्षा के लिए बनाया था.
कलाशनिकोफ़
मेक्सिको में नशीली दवाओं के तस्करों के कलाशनिकोफ़ पर सोने की पत्तियां चढ़ी हुईं.