BBC navigation

क्या आप करेंगे टाइगर डांस?

 सोमवार, 23 सितंबर, 2013 को 11:46 IST तक के समाचार
  • पुली काली
    भारत के राज्य केरल में हर साल ओणम पर्व के दौरान एक ख़ास और परंपरागत उत्सव मनाया जाता है, जिसमें कलाकार अपने शरीर को विविध रंगों में रंगकर बाघ की वेशभूषा और शक्ल बनाते हैं.
  • पुली काली
    इस ख़ास और परंपरागत उत्सव का नाम है पुली काली. पुली मलयाली शब्द है जिसका मतलब होता है बाघ और मलयाली शब्द काली का मतलब होता है नृत्य. इसलिए पुली काली को बाघों का नाच या टाइगर डांस भी कहते हैं.
  • पुली काली
    केरल के अंदर भी यह उत्सव ख़ासतौर पर त्रिसूर ज़िले में मनाया जाता है. ये ओणम त्योहार के शुरू होने के बाद चौथे दिन मनाया जाता है.
  • पुली काली
    इस उत्सव के दौरान कलाकार अपने शरीर को विभिन्न रंगों में रंग कर बाघ का रूप बनाते हैं. पहले तो आम लोग अपने चेहरे पर मुखौटों का इस्तेमाल भी नहीं किया करते थे, लेकिन सुविधाजनक होने के चलते मुखौटों का उपयोग अब खूब होने लगा है.
  • पुली काली
    इस परंपरागत उत्सव को मनाने की शुरुआत करीब 200 साल पहले हुई थी. तत्कालीन कोचिन राज्य के महाराजा राम वर्मा सकथान थामपुरन ने ओणम के दौरान नाच गाने की परंपरा के तौर पर इसे शुरू करवाया था.
  • पुली काली
    समय के साथ यह परंपरागत उत्सव बेहद लोकप्रिय होता गया. हर साल त्रिसूर में इस उत्सव को देखने के लिए हज़ारों लोग जमा होते हैं.
  • पुली काली
    आधुनिकता की होड़ में ये उत्सव कहीं गुम ना हो जाए, इसके लिए 2004 में त्रिशूर में एक संयोजन समिति का गठन हुआ जिसका काम पुली काली से जुड़े लोगों को एकत्रित करके हर साल सफल उत्सव का आयोजन करना है.
  • पुली काली
    त्रिशूर नगर निगम की ओर से पुली काली नृत्य से प्रत्येक समूह को हर साल 30 हज़ार रूपये का अनुदान दिया जाता है ताकि कलाकार इस परंपरागत उत्सव से जुड़े रहें. ( सभी तस्वीरें समाचार व फोटो ऐजेंसी एपी की हैं)

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.