ध्रुवीय प्रदेशों की 'अनोखी' रोशनी

30 अगस्त 2013 अतिम अपडेट 19:04 IST पर

यह प्राकृतिक रोशनी अद्भुत है. जो देखने वालों को अपने सम्मोहन में बांध लेती है. इसे अपने कैमरे में न्यूयार्क के फ़ोटोग्राफर स्टीवन कज़ालोवस्की ने अपने कैमरे में कैद किया.
ध्रवीय प्रकाश
'ध्रुवीय प्रकाश' प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाली रोशनी है. यह तस्वीर अलास्का में कज़ालोवस्की ने खींची.
ध्रवीय प्रकाश
कज़ालोवस्की कहते हैं कि 'ध्रुवीय प्रकाश' किसी दूसरी दुनिया की चीज़ लगती है. यह रोशनी इतनी अद्भुत और जादुई है कि इसे देखकर उस पर भरोसा करना मुश्किल होता है.
ध्रवीय प्रकाश
यह घटना गैस के कणों के कारण होती है, जो सूरज से पृथ्वी की ओर बहते हैं और पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र से टकराते हैं.
ध्रवीय प्रकाश
ये कण वायुमंडल में मौजूद गैसों को प्रभावित करते हैं. इसके कारण उनमें रोशनी पैदा होती है. रोशनी का रंग गैंसों पर निर्भर करता है. लाल और हरा रंग ऑक्सीज़न के कारण उत्पन्न होता है. नाइट्रोजन के कारण नीली और बैगनी रंग की रोशनी पैदा होती है.
ध्रवीय प्रकाश
सौर तरंगों के प्रवाह में वृद्धि के कारण ध्रुवीय प्रकाश की घटना बार-बार होती है.
ध्रवीय प्रकाश
फ़ोटोग्राफऱ स्टीवन कज़ालोवस्की 20 सालों से ध्रुवीय प्रकाश की रोशनी को कैमरे में क़ैद कर रहे हैं.
ध्रवीय प्रकाश
इस रोशनी को 'ध्रुव प्रभा' भी कहते हैं. इसको करीब से देखना रोमांचित करने वाला अनुभव होता है. इतना रोमांचक कि इसे देखने के लिए सर्द रातों में लोग सारी रात खड़े रहते हैं.