स्कॉटलैंड में 'निर्भया' को मिली आवाज़

16 अगस्त 2013 अतिम अपडेट 20:44 IST पर

एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल में भारत में यौन हिंसा और धार्मिक कट्टरपंथ से जुड़े मुद्दों पर आयोजन.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल पिछले 66 साल से आयोजित किया जा रहा है. इस बार के आयोजन में 273 जगहों पर कार्यक्रम हो रहे हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
करीब एक महीने तक चलनेवाले इस फेस्टिवल के दौरान पूरे शहर में मेले का माहौल होता है. इस साल यहां 45,000 से भी ज़्यादा कार्यक्रम आयोजित हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
ख़ास तौर पर शहर के बीचोंबीच कुछ इलाके को ट्रैफिक के लिए बंद कर दिया जाता है और वहां 'स्ट्रीट परफॉर्मर्स' करतब दिखाते हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
भारत के बैंगलोर से 'एवम' नाटक मंडली इस फेस्टिवल में 'अली जे' नाम के नाटक का मंचन कर रही है. ये भारत में एक आम मुसलमान की ज़िन्दगी की कहानी है.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
फेस्टिवल में हज़ारों आयोजनों के बीच अपने कार्यक्रम की जानकारी फैलाने के लिए ख़ुद कलाकार लोगों के बीच जाकर अपने बारे में बताते हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
'अली जे' नाटक में एक ही अभिनेता है जिसकी ज़िन्दगी के हर मोड़ पर उसके अनुभव उसे मुसलमान होने का अहसास दिलाते रहते हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
दिल्ली में दिसंबर में सामूहिक बलात्कार की घटना पर आधारित नाटक 'निर्भया' इस फेस्टिवल के मुख्य आयोजनों में से एक है.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
'निर्भया' में छह भारतीय महिलाएं अपनी ज़िन्दगी में यौन हिंसा की सच्ची घटनाओं के बारे में दर्शकों को बताती हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
नाटक की निर्माता और उसमें अभिनय करनेवाली पूर्ना जगन्नाथन के मुताबिक नाटक का मक़सद भारत में यौन हिंसा की सच्चाई को सामने लाना है.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
'इंडिया फ्लैमेंको' नाम के इस आजोयन में स्पेन के फ्लैमेंको नृत्य की जड़ों को भारत से जोड़ने की कोशिश की गई.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
इसमें भारत के भरतनाट्यम नृत्य को एक ब्रितानी महिला ने पेश किया. ये चार साल तक भारत में रहकर इसका प्रशिक्षण ले चुकी हैं.
एडिनबरा फ्रिंज फेस्टिवल
आयोजन में बताया गया कि कैसे भारत के शास्त्रीय नृत्य ने जिप्सी शैली में बदलते-बदलते आखिरकार स्पेन में पहुंच कर फ्लैमेंको का रूप ले लिया.