BBC navigation

ब्रिटेन का 'भारतीय उपनिवेश' अतीत का हिस्सा बना

 मंगलवार, 13 अगस्त, 2013 को 18:45 IST तक के समाचार

मीडिया प्लेयर

इस सीरीज में जानिए 18 जुलाई 1947 की घटनाओं के बारे मे. जार्ज षष्टम के प्रतिनिधि हाउस ऑफ लार्डस में आए. उन्होनें भारतीय स्वतंत्रता विधेयक को अपनी मंजूरी दी. इसके बाद ब्रिटेन का भारतीय उपनिवेश अतीत का हिस्सा बन गया.

सुनिएmp3

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

15 अगस्त 1947 को भारत की आज़ादी से पहले क्या हो रहा था? बीबीसी हिंदी के लिए 1997 में मधुकर उपाध्याय ने 'पचास दिन पहले, पचास साल बाद' नाम से रिपोर्टें बनाई थीं जिसमें सिलसिलेवार ढंग से आज़ादी के पहले की घटनाओं का ज़िक्र था.

इस सीरीज में जानिए 18 जुलाई 1947 की घटनाओं के बारे मे.

जार्ज षष्टम के प्रतिनिधि हाउस ऑफ लार्डस में आए. उन्होनें भारतीय संवतंत्रता विधेयक को अपनी मंजूरी दी. इसके बाद ब्रिटेन का भारतीय उपनिवेश अतीत का हिस्सा बन गया. त्रावणकोर के शासक ने 15 अगस्त को आज़ाद होने की घोषण का कांग्रेस ने कड़ी विरोध किया. दिल्ली में शरणार्थियों की समस्या उत्पन्न हो गया गया है.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.