सर्कस का बुज़ुर्ग 'शेर'

20 जुलाई 2013 अतिम अपडेट 12:27 IST पर

66 साल की उम्र में जब हड्डियाँ कमज़ोर हो जाती हैं एक बुज़ुर्ग आदमी सर्कस के रिंग में अपने खेल से लोगों का मन मोह रहा है. तस्वीरों में देखिए.
एलैन काराबिनियर टिम्बर के लिए अपने खेल का रिहर्सल करते हुए.
एलैन काराबिनियर की उम्र 66 साल हो चुकी है. सर्कस में अपने कौशल का प्रदर्शन करना उनके लिए घर की बात की तरह है. सर्कस के स्टेज पर वे शौक़िया तौर पर मसख़रे का किरदार निभाने वाले लगते हैं.
टिम्बर के लिए रिहर्सल करता सरक्वे अलफॉन्से का दल
कनाडा से उनका दल 'सरक्वे अलफॉन्से' दुनिया भर के देशों के दौरे पर है जिसमें उनका अगला पड़ाव ब्रिटेन है. यहाँ वे अपने कौशल का करतब दिखाने की तैयारी कर रहे हैं. तस्वीर में एलैन के साथ दो बच्चे और उनका दो साल का पोता भी है.
टिम्बर के लिए रिहर्सल करता सरक्वे अलफॉन्से का दल
सरक्वे अलफॉन्से का दल एलैन के लिए एक पारीवारिक कंपनी की तरह है. एलैन के स्टंट्स लकड़हारे से प्रेरित मालूम देते हैं.
जूली काराबिनियर और जोनाथन कसाउबॉन टिम्बर के लिए एक रिहर्सल के दौरान
एलैन के बच्चे एंटोइने एंड जूली सर्कस के कुशल और प्रशिक्षित कलाबाज़ और डांसर दोनो हैं.
जूली काराबिनियर और लेपाइन कसाउबॉन टिम्बर के लिए रिहर्सल के दौरान.
जूली के साथी जोनाथन और उनका छोटा बेटा आर्थर भी इस शो में शिरकत कर रहा है. उनके खेल में संतुलन साधने की कवायद से लेकर कलाबाज़ी तक शामिल है.
माटियास सैलमेनाहो, जोनाथन कसाउबॉन, एंटोइने काराबिनियर और लेपाइन टिम्बर के लिए एक रिहर्सल के दौरान
एंटोइने कहते हैं, "इस शो में हम जो भी चीजें शामिल करते हैं वह हमारे माता-पिता के घर से लिया जाता है. हमारी कोशिश है कि क्यूबेक की जड़े बरकार और दुनिया भर में इसका विस्तार हो."
माटियास सैलमेनाहो, जोनाथन कसाउबॉन, एंटोइने काराबिनियर और लेपाइन टिम्बर के लिए एक रिहर्सल के दौरान
एंटोइने कहते हैं, "कुछ चीज़ें जो हम कर सकते हैं कि हम एक टीम की तरह काम करते रहें. इसकी हमें ज़रूरत भी है. सबको यह पता हो कि आख़िरी पहुँचना कहाँ हैं.परिवार के साथ काम करने का अपना एक अलग मज़ा है. हम सारी दुनिया का सैर करते रहते हैं."
माटियास सैलमेनाहो, जोनाथन कसाउबॉन, एंटोइने काराबिनियर और लेपाइन टिम्बर के लिए एक रिहर्सल के दौरान
सर्कस की नुमांइदगी करने वाले इन भाई-बहनों की इस जोड़ी का प्रशिक्षण कनाडा के मॉन्ट्रियल में हुआ है. कई बार तो इसे सर्कस की वैश्विक राजधानी भी कहा जाता है.
माटियास सैलमेनाहो, जोनाथन कसाउबॉन, एंटोइने काराबिनियर और लेपाइन टिम्बर के लिए एक रिहर्सल के दौरान
सर्कस कंपनियों की लंबी कत़ार में 'सरक्वे अलफॉन्से' सबसे नया नाम है. इसकी शुरुआत क्यूबेक से हुई है. विश्व मंच पर सरक्वे ड्वे सोलेइल, सरक्वे इलोइजे और लेस सेवेन डे ला मेन जैसी सर्कस कंपनियां पहले से ही मौजूद हैं.
एलैन काराबिनियर और उनकी बेटी जूली काराबिनियर व लेपाइन टिम्बरके लिए एक रिहर्सल के दौरान
टिंबर का प्रदर्शन लंदन के साउथबैंक सेंटर में चल रहा है. यह जुलाई 2013 के आख़िर तक चलेगा. सभी तस्वीरें: एम्मा लिंच/बीबीसी