BBC navigation

मौत की घाटी का मंज़र

 बुधवार, 3 जुलाई, 2013 को 17:11 IST तक के समाचार
  • डेथ वैली
    कैलिफोर्निया के डेथ वैली की निगरानी इन दिनों मौसमविज्ञानी कर रहे हैं. आशंका ये जताई जा रही है कि इस बार यहां तापमान अधिकतम स्तर तक पहुंच जाएगा. पश्चिमी अमरीकी राज्यों में इन दिनों बेहद तेज़ गर्म हवाएं चल रही हैं.
  • डेथ वैली
    मौसमविज्ञानी ने आशंका जताई है कि डेथ वैली में तापमान 54 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा. पृथ्वी का अधिकतम तापमान का रिकॉर्ड 56.7 डिग्री सेल्सियस का रहा है. यह तापमान 10 जुलाई, 1913 को दर्ज किया गया था.
  • डेथ वैली
    इस घाटी का नाम डेथ वैली इसलिए रखा गया क्योंकि उन्नीसवीं शताब्दी के शुरुआती सालों में सोने-चांदी के खदानों की खोज में निकलने वाले लोग जब इस इलाके से गुजरते तो उनकी मौत हो जाती थी.
  • डेथ वैली
    इस क्षेत्र के प्रमुख आकर्षणों में शामिल है बैडवाटर बेसिन. यह समुद्री स्तर से 85.5 मीटर नीचे की जगह है. यह उत्तरी अमरीका में सबसे निचली जगह है.
  • डेथ वैली
    इस बेसिन में सालाना बारिश बेहद कम होती है. अब तक इस इलाके में कभी 50 मिलीमीटर की बरसात नहीं हुई है. इस इलाके में नमक की मोटी परत दिख रही है. कुछ साल तो इस इलाके में एकदम बारिश नहीं होती है.
  • डेथ वैली
    उत्तरी अमरीका का यह सबसे निचली जगह है. यह दुनिया का सबसे गर्म और सूखे इलाके के तौर पर मशहूर है.
  • डेथ वैली
    कैलिफोर्निया के मोजेवे मरुस्थल में स्थित डेथ वैली अमरीका का तीसरा सबसे बड़ा राष्ट्रीय पार्क है. यह करीब 33 लाख एकड़ में फैला हुआ है.
  • डेथ वैली
    यह थर्मामीटर डेथ वैली में एक गर्म तवे में रखा हुआ है. 31 जून, 2013 को ये थर्मामीटर तापमान 158 डिग्री फॉरेनहाइट यानी करीब 70 डिग्री सेल्सियस दिखा रहा है.
  • डेथ वैली
    डेथ वैली में फ्यूनेक क्रीक वह जगह जहां तापमान सबसे ज्यादा दर्ज़ किया गया है. हाल ही में यहां तपमान 127 डिग्री फॉरेनहाइट यानी 53 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है.
  • डेथ वैली
    1933 में डेथ वैली को राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया गया. इसके बाद 1994 में इसे राष्ट्रीय पार्क का दर्जा हासिल हुआ.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.