जहां होता है सामूहिक ख़तना

2 जुलाई 2013 अतिम अपडेट 11:00 IST पर

दक्षिण अफ्रीका के कई इलाकों में ख़तना के लिए सामूहिक आयोजन होते हैं. कंबल ओढे और चेहरे पर लेप लगाए हुए युवक गाते बजाते इनमें शामिल होते हैं.
दक्षिण अफ्रीका में खोसा समुदाय के युवकों के ख़तना के लिए सामूहिक आयोजन किए जाते हैं. पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला भी इसी समुदाय से आते हैं.
ईस्टर्न केप राज्य में नेल्सन मंडेला के गांव कुनु के पास भी सामूहिक ख़तना के ऐसे आयोजन होते हैं. इसमें शामिल होने के लिए युवक कंबल ओढ़कर और चेहरे पर एक ख़ास तरह का लेप लगाकर जाते हैं.
नेल्सन मंडेला कुनु में ही पले-पढ़े हैं. वे इसी महीने 95 साल के हो जाएंगे. फेफड़ों में संक्रमण की वजह से मंडेला आजकल प्रीटोरिया के एक अस्पताल में भर्ती हैं.
खोसा समुदाय के ये युवक सामूहिक ख़तना के लिए गाना गाते हुए जाते हैं.
खेतों से होते हुए ये युवक एक घर में पहुँचते हैं, जहाँ उनका ख़तना किया जाता है.
दुनिया के कई हिस्सों में ख़तना का चलन है और इसे एड्स जैसी बीमारी के संक्रमण से बचने में भी सहायक बताया जाता है. हालांकि कई आलोचक इसे मानवाधिकार के हनन के तौर पर देखते हैं.
ख़तना के दौरान कई बार युवकों की मौत भी हो जाती है. पुलिस के अनुसार इस साल मई में पूर्वोत्तर राज्य मपुमालांग में ख़तना समारोहों के दौरान 23 युवकों की मौत हो गई थी.
एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक़ इन मौतों के सिलसिले में कुल 22 मामले दर्ज किए गए हैं. मरने वालो की उम्र 13 से 21 साल के बीच थी.