विंबलडन 2013: ड्रेस कोड

2 जुलाई 2013 अतिम अपडेट 04:09 IST पर

विंबलडन में खेलने वाले खिलाड़ियों के ड्रेस कोड बेहद मशहूर रहे हैं. किसी को पीले रंग के आउटफ़िट में खेलना पसंद रहा है तो कोई लाल रंग की ड्रेस में ही कोर्ट में उतरता है. देखिए विंबलडन ड्रेस कोड की एक झलक.
सात बार विंबलडन चैंपियन रहे रॉजर फ़ैडरर को कहा गया था कि वो अपने पीले रंग के तले वाले जूते नहीं पहन सकते. उन पर आरोप लगा था कि उन्होंने ऑल इंग्लैंड क्लब का मशहूर ऑल व्हाइट ड्रेस कोड तोड़ा था. (फोटो:एएफ़पी)
तीन बार चैंपियन रहे जॉन मैकेनरो अक्सर चमकीला लाल रंग का हेडबैंड पहना करते थे और विंबलडन टर्फ़ पर एक तरफ़ से दूसरी तरफ़ तक जाया करते थे. (फोटो:गैटी)
2002 का साल अन्ना कोर्निकोवा के लिए बेहद हंगामाखेज़ था. उन्हें अपने काले शॉर्ट्स उतारने पड़े थे. इस रूसी खिलाड़ी ने इसके बाद पुरुषों के सफ़ेद शॉर्ट्स पहनकर मैच पूरा किया. हालांकि इसके लिए स्पॉन्सर का लोगो काटना पड़ा था. (फोटो:गैटी)
विंबलडन नियमों में कहीं भी ये नहीं कहा गया है कि शरीर पर गुदे टैटू कितने दिखने चाहिए. इस साल के मैच के दौरान दर्शकों को अमरीकन खिलाड़ी बेथैनी मैटेक सैंड्स की बांह पर गुदे टैटू देखने को मिले. (फोटो:एएफ़पी)
विंबलडन के दौरान खिलाड़ियों के कपड़ों के मामले में हालांकि काफ़ी नुक्ताचीनी होती है, मगर हेयरस्टाइल को लेकर वहां कुछ छूट भी हैं. 1997 में वीनस विलियम्स जब कोर्ट में उतरीं तो उनके बालों में कई रंगों के बीड्स लगे थे. (फोटो:गैटी)
अपने करियर के शुरुआती सालों में आंद्रे अगासी ने विंबलडन में इसलिए खेलने से इनकार कर दिया क्योंकि वह अपने डैनिम शॉर्ट्स और तड़कीले रंगों वाली शर्ट्स पहनकर ही खेलना चाहते थे. इस अमरीकन खिलाड़ी ने आखिरकार 1991 में नियमों को कबूला. हालांकि तब भी उन्होंने अपने ईयररिंग और खास किस्म के हेयरकट को छोड़ने से इनकार कर दिया. (फोटो:गैटी)
अधिकारियों ने बीबीसी स्पोर्ट को बताया है कि खेल की शुरुआत के दौरान उन्होंने कई खिलाड़ियों से उनके पहनावे को लेकर बात की है. मारिया शारापोवा ऐसी एक खिलाड़ी हैं जिन्होंने फैडरर की तरह नारंगी रंग के कपड़ों को पहनकर मैच खेला. (फोटो:गैटी)
फ़ैडरर पहले-पहल विंबलडन के नियमों से तब रू-ब-रू हुए जब वो 2009 में क्रीम रंग की सोने की कढ़ाई वाली अपनी जैकेट मैच खेलने के लिए साथ ले आए थे. (फोटो:एएफ़पी)
2007 में फ़्रांस की तात्याना गोलोविन ने अपने टैनिस व्हाइट शॉर्ट्स के नीचे लाल हॉटपैंट पहनकर मैच खेला था. तात्याना का तर्क था कि उन्होंने नियमों का उल्लंघन नहीं किया क्योंकि उनके हॉटपैंट उनकी स्कर्ट से छोटे थे. (फोटो:एएफ़पी)
अपने वक़्त के फ़ैशन से प्रेरित अमरीकन खिलाड़ी एनी व्हाइट 1985 में कोर्ट में पूरी तरह सफ़ेद स्किन टाइट जंपसूट पहनकर पहुंची थीं. सूट के साथ ही जुड़े लैग वार्मर थे. इसमें ताज्जुब नहीं कि यह ऑल इंग्लैंड क्लब के नियमों के ख़िलाफ़ था. (फोटो:गैटी)