नीचे दिया ऑडियो पेज डाऊनलोड करें

उच्च गुणवत्ता mp3 (24 एमबी)

उत्तराखंड में तबाही: प्राकृतिक आपदा या मानवकृत

22 जून 2013 अतिम अपडेट 20:23 IST पर

उत्तराखंड में भारी बारिश और बाढ़ की विभीषिका ने सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक 550 से ज्यादा जानें ले ली हैं और 40 हज़ार से ज्यादा लोग अभी भी जगह-जगह फंसे हुए हैं. सैकड़ों घर और इमारतें मंदाकिनी और भगीरथी नदियों की धारा में बह गई हैं. राज्य के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने बताया है कि मृतकों की संख्या 1000 तक हो सकती है. केदारनाथ, रूद्र प्रयाग, उत्तरकाशी प्रकृति के रौद्र रूप से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं. सवाल उठता है कि उत्तराखंड में आई ये विपदा प्राकृतिक है या इसके लिए प्रकृति के साथ मानवीय छेड़छाड़ जिम्मेदार है. इंडिया बोल में इसी विषय पर हुई बहस का संचालन दिल्ली स्टूडियो में अमरेश द्विवेदी के साथ देहरादून से नितिन श्रीवास्तव ने किया. देहरादून में नितिन के साथ हमारी सहयोगी शालिनी जोशी और राज्य आपदा विभाग के निदेशक पीयूष रौतेला भी मौजूद थे.

बीबीसी हिंदी रेडियो के इंडिया बोल कार्यक्रम में शामिल होना अब और आसान. अब आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पन्नेपर जाकर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं और कार्यक्रम में भी शामिल हो सकते हैं. अथवा अपना फ़ोन नंबर हमें ई-मेल के ज़रिए hindi.letters@bbc.co.uk या hindi.desk@bbc.co.uk पर भेज सकते हैं, ताकि हम आपसे संपर्क कर सकें.

लिखिए अपनी राय बीबीसी हिंदी के फेसबुक के पन्ने पर

अब आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पन्ने पर जाकर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं और कार्यक्रम में भी शामिल हो सकते हैं. अथवा अपना फ़ोन नंबर हमें ई-मेल के ज़रिए hindi.letters@bbc.co.uk या hindi.desk@bbc.co.uk पर भेज सकते हैं, ताकि हम आपसे संपर्क कर सकें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पेज पर जाकर भी अपनी राय रख सकते हैं. साथ ही ट्विटर पर भी हमें फॉलो कर सकते हैं)