BBC navigation

ये सड़क सुकमा तक जाती है...

 शुक्रवार, 14 जून, 2013 को 00:36 IST तक के समाचार
  • मानसून की पहली फुहार और माओवादियों के जन पितुरी सप्ताह की वजह से पूरे बस्तर के इलाके में जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया. इस दौरान दक्षिण छत्तीसगढ़ के कई इलाके थे जो पूरी तरह से बाकी की दुनिया से कट चुके थे. न यहाँ जाया जा सकता था और ना ही न यहाँ के लोग शहरों की तरफ आ सकते थे.
  • घने जंगलों और पहाड़ों के बीच से बहती हुई नदियों में आये उफान की वजह से कई गावों का संपर्क जिला मुख्यालयों से कट गया. इसी बीच माओवादियों द्वारा संघर्ष में शहीद हुए अपने साथियों की याद में मनाये जा रहे जन पितुरी सप्ताह की वजह से जन जीवन बुरी तरह प्रभावित हो गया.
  • भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के छापामारों नें बस्तर संभाग में कई सड़कों पर अवरोध लगाकर आम जन जीवन को अस्त व्यस्त कर दिया.
  • संभाग में कई इलाकों में माओवादियों ने सड़कों को काट दिया और प्रमुख मार्गों पर पेड़ों को काट कर गिरा दिया जिस कारण वाहनों का आवागमन ठप्प पढ़ गया.
  • दंतेवाडा से सुकमा के रास्ते पर माओवादियों नें भुसरस और गादीरास की घाटियों में सड़कों में कई फुट घरे गड्ढे खोद दिए और पेड़ों को काट कर रास्ते में गिरा दिया. सुकमा और कोंटा के बीच भी माओवादियों ने कई अवरोध लगा दिए थे.
  • छत्तीसगढ़ को आन्ध्र प्रदेश से जोड़ने वाले इस राष्ट्रीय उच्च मार्ग पर खबरें मिल रही थीं कि माओवादी गाड़ियों की तलाशी ले रहे थे.
  • झमाझम बारिश होने की वजह से सुरक्षा बल के जवान माओवादियों द्वारा किये गए अवरोध को हटा नहीं पा रहे थे.
  • वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का कहना था कि अक्सर देखा गया है कि अवरोध पैदा कर माओवादी सुरक्षा बालों के जवानों के लिए जाल बिछाते हैं. पेड़ों और गड्ढों में वो विस्फोटक लगा देते हैं. जब सुरक्षा बल के जवान इन अवरोधों को हटाने जाते हैं तो वो विस्फोट की चपेट में आ जाते हैं.
  • माओवादियों के जन पितुरी सप्ताह का असर पूरे संभाग में देखा जा रहा है. एहतियात के तौर पर रेल प्रशासन ने किरन्दूल और जगदलपुर से चलने वाली सभी यात्री ट्रेनों और माल गाड़ियों को रद्द कर दिया है. सभी तस्वीरें और कैप्शनः बीबीसी संवाददाता सलमान रावी

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.