BBC navigation

जिन खेतों ने उगला सोना

 रविवार, 31 मार्च, 2013 को 12:43 IST तक के समाचार
  • नालंदा बिहार धान फ़सल
    बिहार सरकार ने नालंदा ज़िले के दरवेशपुरा गांव के सुमंत कुमार के खेत में 22.4 टन प्रति हेक्टेयर धान की पैदावार का दावा किया जो इससे पहले चीन में उपजे प्रति हेक्टेयर 19.4 टन के विश्व रिकॉर्ड से कहीं ज़्यादा है.
  • नालंदा बिहार धान फ़सल
    नौकरी छोड़कर खेती में आए सुमंत कुमार कहते हैं कि पहले-पहल जब उन्होंने खेती की श्री विधि तकनीक अपनाई थी तो लोगों ने कहा कि कहीं एक-एक पौध से अनाज उगता है. पारंपरिक तरीक़े में कई पौधों को साथ रोपा जाता है जबकि श्री विधि में एक एक पौधे को सीधी क़तार में अलग-अलग लगाया जाता है.
  • नालंदा बिहार धान फ़सल
    धान की विश्व रिकॉर्ड फ़सल पर सवाल खड़े हो रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार का कहना है कि ये बात पूरी खोज-परख के बाद ही कही गई है. हालांकि आलोचक कहते हैं कि मामूली गड़बड़ी की वजह से भी अनुमान में भारी फ़र्क पड़ सकता है.
  • दरवेशपुरा गेंहू खेत
    दरवेशपुरा के खेत ज़िले के दूसरी जगहों की तुलना में ज़्यादा उपजाऊ हैं. पारंपरिक तरीक़े से उगाई जा रही गेंहू की फ़सल.
  • किसान नीतीश कुमार आलू
    नीतीश कुमार ने एक हेक्टेयर में 364 किलो आलू उगाए. इसे भी बिहार सरकार ने विश्व में सबसे अधिक हुई आलू की उपज बताया.
  • किसान नितिश कुमार आलू
    नीतीश कुमार आलू को इस तरह से संरक्षित करते हैं.
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार किसानों के साथ
    मुख्यमंत्री नीतीश कुमार किसानों से मिलने दरवेशपुरा गए. इसके बाद वहां लोगों के पहुंचने का सिलसिला रूक नहीं रहा है.
  • श्री विधि से खेती महिला समूह
    गेंहू में श्री विधि के माध्यम से बटाई की खेती करती महिलाएं, जो एक महिला समूह का हिस्सा हैं.
  • किसान धनंयजय कुमार गेहूं श्री विधि
    किसान धनंजय सिंह कहते हैं कि उपज पहले की तुलना में बेहतर है जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार आया है.
  • महिला समूह धरहरा, नांलदा
    गांव की महिलाओं ने बीबीसी टीम का स्वागत शरबत और मूंगफली से किया.
  • किसान नीतीश कुमार के बच्चे
    नीतिश कुमार के बेटे (दाएं) और बेटी अब स्कूल जाने लगे हैं, लेकिन घर के कामों में भी वो अक्सर हाथ बंटाते हैं.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.