BBC navigation

कश्मीर में जीवन के रंग

 मंगलवार, 20 नवंबर, 2012 को 12:10 IST तक के समाचार

कश्मीर में जीवन

  • फोटोग्राफर अमित मेहरा ने साल 2006 से साल 2011 के बीच भारत प्रशासित कश्मीर का 25 बार दौरा किया. बीते दो वर्षों में वहां के जनजीवन को उन्होंने कैमरे में कैद किया. दिल्ली में इन्हीं तस्वीरों की प्रदर्शनी लगी है.
  • भारत प्रशासित कश्मीर में भारतीय शासन के खिलाफ वर्ष 1989 में शुरु हुई बगावत के बाद हज़ारों लोग मारे जा चुके हैं.
  • ज्यादातर तस्वीरें कश्मीर में होने वाले विरोध-प्रदर्शनों, मौत और जनाज़ों को दिखाती है. लेकिन प्रदर्शनी के आयोजनकर्ताओं का दावा है कि मेहरा की तस्वीरें दूसरे पहलुओं को भी दर्शाती हैं.
  • मेहरा की खींची कुछ तस्वीरों में एक खास तरह की खामोशी भी नजर आती है.
  • शीशे के दूसरी ओर खड़े लोगों की तस्वीरें मेहरा की फोटोग्राफी की एक खासियत कही जा सकती है.
  • गुलमर्ग की एक होटल के भीतर से खींची गई तस्वीर.
  • मेहरा ने भारत प्रशासित कश्मीर में ऐसे कई घर देखे हैं जहां अब कोई नहीं रहता है.
  • श्रीनगर के नजदीक मशहूर हज़रतबल दरगाह का दृश्य.
  • मेहरा कहते हैं कि इस तस्वीर में नजर आ रहा मुस्लिम व्यक्ति शिवलिंग की देखभाल करता है.
  • कश्मीरी युवकों की इस तस्वीर के जरिए मेहरा ने घाटी के युवकों के एक अलग ही तरह के रूप को सामने लाने की कोशिश की है.
  • श्रीनगर के नजदीक अपनी अलग ही दुनिया में मस्त दो बच्चियां.
  • मेहरा ने लांगरबल के नजदीक एक गांव में ये तस्वीर गोलियां चलने की आवाज सुनाई देने के फौरन बाद की हलचल को कैद करने के इरादे से खींची थी.
  • टूटाफूटा खिलौना जो टूटे सपनों को निरुपित करता है.
  • इस तस्वीर के जरिए मेहरा ने कश्मीरी समाज का तानाबाना दिखाने की कोशिश की है.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.