BBC navigation

लय में लौटा टर्बनेटर हरभजन

 सोमवार, 24 सितंबर, 2012 को 15:31 IST तक के समाचार

फिर लौटी हरभजन की धार

  • हरभजन
    पंजाब के जालंधर के रहने वाले हरभजन सिंह ने अपने कैरियर की शुरुआत साल 1998 में की. शुरु में वे अपने एक्शन की वजह से विवाद में आए. (एपी फोटो)
  • हरभजन
    हरभजन सिंह का जलवा साल 2001 की ऑस्ट्रेलिया सिरीज़ के दौरान देखने को मिला जब उन्होंने सिरीज़ में 32 विकेट लिए. इसमें हैट-ट्रिक भी शामिल थी जो भारत के किसी गेंदबाज़ द्वारा टेस्ट मैचों में की गई पहली हैट-ट्रिक थी.
  • हरभजन
    हरभजन 'टरबनेटर' नाम से विख्यात हो गए. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लेकर आईपीएल तक वो छाए रहते थे और कई सालों तक भारतीय टीम के प्रमुख सदस्य रहे.
  • हरभजन
    फिर आया खराब दौर. पहले साल 2003 में उंगली में चोट लगी. साल 2004 में टीम में लौटे ज़रूर लेकिन भज्जी की धार धीरे धीरे कम होने लगी. विकेट कम मिलने लगे और गेंदबाज़ी की औसत बढ़ने लगी. (गैटी)
  • हरभजन
    अपने कैरियर में हरभजन कई बार विवादों में घिरे रहे हैं. चाहे वो ऑस्ट्रेलिया के एंड्रयू साइमंड के साथ हो या फिर एस श्रीसांत को थप्पड़ मारने पर पैदा हुए विवाद को लेकर. लेकिन मैदान के बाहर भज्जी मस्त खिलाड़ी माने जाते है जो अक्सर अपने साथी खिलाडि़यों के साथ मज़ाक करते देखे जाते हैं. एपी फोटो
  • हरभजन
    भज्जी टीम से बाहर रहे लेकिन टी-20 विश्व कप के लिए उन्हें दोबारा टीम में लिया गया. एक एक कर के उन्होंने चार विकेट चटकाए तो ऐसा लगने लगा कि फिर से वही पुराने भज्जी लौट आए हैं. (एपी)
  • हरभजन
    रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ मैच में उन्होंने 12 रन देकर चार विकेट लिए जो किसी भी भारतीय गेदबाज़ का टी-20 में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. अपने रंग में आने के बाद हरभजन ने कुछ ऐसे भगवान का शुक्रिया अदा किया. उनके प्रशंसकों को उम्मीद है कि वो ऐसा ही प्रदर्शन जारी करते हुए जल्द ही वनडे और टेस्ट टीम में भी वापसी करेंगे. (एपी)

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.