फिर मैदान पर लौटेंगे युवराज!

 शुक्रवार, 10 अगस्त, 2012 को 20:12 IST तक के समाचार
  • युवराज सिंह
    साल 2011 में जब यह पता चला कि युवराज के सीने में मौजूद ट्यूमर असल में कैंसर तो उनके दुनियाभर में मौजूद उनके प्रशंसकों के हाथ प्रार्थनाओं के लिए जुड़ गए. जांच के बाद डॉक्टरों ने बताया कि उनका कैंसर खतरनाक नहीं है.
  • युवराज सिंह
    एक समय पक्के दोस्त रहे युवराज सिंह और कप्तान धोनी के बीच मनमुटाव की खबरें मीडिया में आती रही हैं, लेकिन मुश्किल के इस दौर में हर किसी ने उनके लिए दुआ की.
  • युवराज सिंह
    इसके बाद अमरीका में युवराज का इलाज शुरु हुआ.
  • युवराज सिंह
    साल 2011 में हुए क्रिकेट विश्व कप में भारत की जीत के अहम सूत्रधार बने युवराज सिंह ने कैंसर के खिलाफ जंग को भी पूरी शिद्दत से लड़ा. किताबों और अपने करीबी दोस्तों के ज़रिए अपना मनोबल बनाए रखा.
  • युवराज सिंह
    इलाज करवाते हुए युवराज ट्विटर पर अपने प्रशंसकों को अपने स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देते रहे. भारत आने की अपनी उत्सुकता भी उन्होंने ट्विटर के ज़रिए जाहिर की.
  • युवराज सिंह
    युवराज इससे पहले भी अलग अलग मौकों पर शारिरिक परेशानियों से जूझते रहे हैं और हर बार चयनकर्ताओं के सामने अपनी काबलीयत साबित करके टीम में वापसी की.
  • युवराज सिंह
    इलाज के बाद मई के महीने में जब वो भारत लौटे तो उनका स्वागत करने के लिए बड़ी तादाद में उनके प्रशंसक दिल्ली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे.
  • युवराज सिंह
    युवराज की मां उन्हें हवाई अड्डे पर लेने पहुंची. युवराज ने लोगों की तरफ हाथ हिलाकर लोगों का अभिनंदन किया.
  • युवराज सिंह
    लौटने से पहले युवराज ने ट्विटर पर लिखा था- आखिरकार वो दिन आ ही गया. मैं अपने देश जा रहा हूँ. मुझसे अब इंतजार नहीं होता. अपने परिजनों और मित्रों से मिलने को लेकर काफी उत्सुक हूँ. मेरा भारत महान.
  • युवराज सिंह
    कई खिलाड़ियों का मानना है कि युवराज सिंह की उपस्थिति ही टीम में जान फूक देती है. आखिरकार दस महीने बाद भारत की टी-20 टीम में युवराज की वापसी हो गई है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.