BBC navigation

विश्व कप विजयः सुनहरी यादें

 सोमवार, 2 अप्रैल, 2012 को 21:19 IST तक के समाचार

विश्व कप विजय की सुनहरी यादें

  • 2011 का क्रिकेट विश्व कप भारत-श्रीलंका-बांग्लादेश में हुआ. दसवें विश्व कप का पहला मैच 19 फ़रवरी को मीरपुर में भारत और बांग्लादेश के बीच खेला गया.
  • पहले खेलने उतरी भारतीय टीम ने धुआँधार बल्लेबाज़ी करते हुए केवल चार विकेट पर 370 रन का स्कोर खड़ा कर दिया. ओपनर सहवाग ने 140 गेंद पर 175 रन बनाए. विराट कोहली 83 गेंदों पर 100 रन बनाकर नॉट आउट रहे. बांग्लादेश 87 रन से हार गया.
  • भारत का अगला ग्रुप मैच इंग्लैंड के विरूद्ध था. पहले बैटिंग करनेवाली भारतीय टीम ने सचिन की शानदार 120 रनों की शतकीय पारी के सहारे 338 रन बनाए.
  • इंग्लैंड को अंतिम ओवर में जीतने के लिए 14 रन चाहिए थे, मगर बने 13 – मैच टाई हो गया. ये विश्व कप इतिहास में टाई होनेवाला चौथा मैच था.
  • भारत का तीसरा मैच आयरलैंड के साथ था. आयरलैंड 207 रन पर ऑल आउट हो गया, युवराज ने 31 रन देकर पाँच विकेट लिए.
  • भारत की शुरूआत निराशाजनक रही. उसने 100 रन पर चार विकेट गँवा दिए थे. मगर युवराज ने नॉटआउट अर्धशतक लगाकर भारत को पाँच विकेट से जीत जिताया.
  • भारत का चौथा मैच हॉलैंड के विरूद्ध था. टॉस जीतकर पहले बैटिंग करनेवाला हॉलैंड 189 पर ऑल आउट हो गया.
  • भारतीय बैटिंग फिर लड़खड़ाई, स्कोर एक समय 99/4 हो गया था. एक बार फिर युवराज ने नॉटआउट अर्धशतकीय पारी लगाकर पाँच विकेट से जीत दिलाई.
  • ग्रुप दौर में भारत का छठा मैच – दक्षिण अफ़्रीका के साथ. पहले बैटिंग का फ़ैसला करनेवाले भारत का स्कोर 40वें ओवर में था 1/237. सचिन ने 101 गेंद पर 111 रन बनाए थे, सहवाग ने 73 और गंभीर ने 69. मगर भारत ने अगले 9 विकेट 29 रन के भीतर गँवा दिए. भारत का स्कोर रहा – 296 रन.
  • नागपुर में हुए इस मैच में दक्षिण अफ़्रीका ने भारत को तीन विकेट से हरा दिया. ये विश्व कप 2011 में भारत की पहली और एकमात्र हार थी.
  • भारत का अंतिम ग्रुप मैच – वेस्टइंडीज़ के विरूद्ध. पहले बैटिंग करनेवाली भारतीय टीम 268 पर ऑल आउट हो गई. युवराज सिंह ने शतक लगाया.
  • वेस्टइंडीज़ ने शुरूआत अच्छी की. एक समय स्कोर था 2/154. मगर फिर 34 रनों के अंदर उसके आठ विकेट गिर गए. भारत 80 रन से जीत गया और क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँच गया.
  • क्वार्टर फ़ाइनल में अहमदाबाद में भारत के सामने था – विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया जिसने पहले बल्लेबाज़ी कर भारत के सामने जीत के लिए 251 रन का लक्ष्य रखा. कप्तान रिकी पोंटिंग ने 104 रन बनाए.
  • भारत ने मैच आराम से पाँच विकेट से जीतकर सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई. सचिन, गंभीर, युवराज ने अर्धशतक लगाए.
  • विश्व कप के दूसरे सेमीफ़ाइनल में भारत के सामने था पाकिस्तान. मोहाली में हुए मैच में भारत ने टॉस जीता और पहले बल्ला उठाकर नौ विकेट पर 260 रन बनाए. सचिन ने सर्वाधिक 85 रन बनाए.
  • भारतीय गेंदबाज़ पाकिस्तानी बल्लेबाज़ों पर हावी रहे जिन्होंने अंतिम ओवर की पाँचवीं गेंद पर पाकिस्तान को 231 रन पर समेट डाला. पाकिस्तान 29 रनों से हार गया. भारत फ़ाइनल में पहुँचा. मैन ऑफ़ द मैच रहे सचिन तेंदुलकर.
  • शनिवार, दो अप्रैल 2011, वानखेड़े स्टेडियम, मुंबई. फ़ाइनल में भारत की टक्कर श्रीलंका से जिसने सेमीफ़ाइनल में न्यूज़ीलैंड को हराया था.
  • श्रीलंका ने पहले बैटिंग का फ़ैसला किया. श्रीलंका ने 50 ओवरों में 6/274 का स्कोर खड़ा किया. महेला जयवर्धने 88 गेंदों में 103 रन बनाकर अंत तक डटे रहे.
  • भारत की शुरूआत ख़राब रही. सचिन-सहवाग नहीं चले. मगर 97 रन बनानेवाले गौतम गंभीर और केवल 89 गेंदों पर 91 रन बनानेवाले कप्तान धोनी ने चौथे विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी कर जीत का मार्ग प्रशस्त कर दिया.
  • गंभीर के बाद युवराज सिंह आए और युवराज-धोनी ने मिलकर भारत के विश्वविजय का इतिहास रचा. अंतिम दो ओवर में जीत के लिए पाँच रन चाहिए थे. युवराज ने एक रन लेकर धोनी को बैटिंग का मौक़ा दिया. चार रन चाहिए थे, और धोनी ने छक्का लगाकर भारत को विश्वविजेता बना दिया.
  • धोनी विश्व कप फ़ाइनल के मैन ऑफ़ द मैच रहे. युवराज सिंह मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट (362 रन, 15 विकेट). श्रीलंका के तिलकरत्ने दिलशान के बाद 482 रन बनानेवाले सचिन विश्व कप में सबसे अधिक रन बनानेवाले दूसरे बल्लेबाज़. 21-21 विकेट लेनेवाले ज़हीर ख़ान और शाहिद आफ़रीदी सफलतम गेंदबाज़.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.