दिल्ली की योजना: कितनी सफ़ल रही 100 सालों में

 रविवार, 11 दिसंबर, 2011 को 11:10 IST तक के समाचार

मीडिया प्लेयर

दुनिया के दूसरे सबसे आबाद देश भारत की राजधानी होने के नाते, क्या दिल्ली की शहरी योजना उसके बदलते चरित्र के अनुरूप साबित हुई? यही जानने की कोशिश की शालू यादव ने.

सुनिएmp3

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

पिछले सौ सालों में दिल्ली की सबसे बड़ी चुनौती रही है उसकी बढ़ती आबादी. फिर चाहे वो अंदरुनी हो या बाहर से आने वाले अप्रवासियों की आबादी.

लेकिन दुनिया के दूसरे सबसे आबाद देश भारत की राजधानी होने के नाते, क्या दिल्ली की योजना उसके बदलते चरित्र के अनुरूप साबित हुई?

यहां साल दर साल नए फ़्लाईओवर, लंबी होती सड़कें और ऊंची ऊंची इमारतें बनती हुई नज़र आती हैं, लेकिन क्या दिल्ली प्रशासन शहर की बढ़ती आबादी की मूलभूत ज़रूरतों को पूरा कर पाई?

‘दिल्ली – कल आज और कल’ श्रृंखला की इस कड़ी में बीबीसी संवाददाता शालू यादव ने यही जानने की कोशिश की.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.