ये सड़कें नई पुरानी

  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    बीबीसी की हाइवे हिंदुस्तान टीम इस समय बनारस से कोलकाता मार्ग पर यात्रा कर रही है और समझने की कोशिश कर रही है कि नई सड़कें कैसा प्रभाव डाल रही हैं.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    सड़कें तेज़ रफ़्तार हो गई हैं लेकिन लोगों की शिकायत है कि अभी भी सड़क के किनारे रह रहे लोग इस रफ़्तार वाली सड़कों पर चलने का तरीक़ा नहीं सीख रहे हैं.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    कहीं लोग पैदल सड़क पार करते दिखते हैं, कहीं वाहन सहित सड़क पार करने लगते हैं और अक्सर विपरीत दिशा से आते हुए दिखते हैं.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    सड़कें यातायात के लिए खोल दी गई हैं लेकिन अभी भी निर्माण का कार्य पूरा नहीं हुआ है.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    लोगों को अभी तेज़ रफ़्तार सड़कों पर चलने के लिए हैलमेट पहनने जैसे सुरक्षित उपायों की ज़रूरत समझ में नहीं आई है.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    बनारस से कोलकाता के बीच आना जाना करने वाले इस सड़क से ख़ुश हैं. ख़ासतौर पर ट्रक वाले. लेकिन कुछ लोगों की शिकायत है कि इसने सड़कों पर पुलिस का हस्तक्षेप बढ़ाया है.
  • एक ग्रामीण सड़क
    राष्ट्रीय राजमार्गों से ज़रा सा हटें तो ग्राणीण सड़कें मिल जाती हैं और वहाँ यातायात और यात्रियों की संख्या का दबाव पहले जैसा ही है.
  • राजकीय राजमार्ग
    राजकीय राजमार्ग की सड़कें तो नई बन रही हैं लेकिन यात्रियों की संख्या का दबाव ऐसा है कि बसों के ऊपर बैठकर यात्रा करनी पड़ती है.
  • निर्माण कार्य
    राजकीय राजमार्गों को राष्ट्रीय राजमार्गों से अच्छी सड़कों से जोड़ने की योजना पर भी तेज़ी से काम चल रहा है.
  • निर्माण
    लोग ख़ुश हैं कि स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना ने ऐसे बहुत से पुल बनवा दिए जिनकी ज़रुरत कई सालों से महसूस की जा रही थी.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक दो, स्वर्णिम चतुर्भुज
    सड़कें तैयार हैं. यातायात जारी है लेकिन अभी भी साइन बोर्ड पर्याप्त नहीं हैं और आपात सहायता जैसी सुविधाओं का अभाव दिखता है.
  • बीबीसी हाइवे हिंदुस्तान टीम
    बीबीसी हाइवे हिंदुस्तान टीम (बाएँ से) पंकज भाकुनी, संतोष सिन्हा, गरिमा सराफ, विनोद वर्मा और ब्रजेश उपाध्याय.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.