पाकिस्तान को जंगल नहीं बनने देंगे: शरीफ़

  • 13 अगस्त 2014
क़ादरी, नवाज़ शरीफ़ और इमरान ख़ान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने चेतावनी दी है कि 'देश को ऐसा जंगल नहीं बनने देंगे जहाँ जिसकी लाठी उसकी भैंस का क़ानून चलने लगे'.

पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस से पहले देश को संबोधित करते हुए शरीफ़ ने कहा कि पाकिस्तान में किसी को भी अराजकता और संविधान के साथ खिलवाड़ की इजाज़त नहीं दी जाएगी.

धर्मगुरू ताहिर अल क़ादरी और तहरीक़ इंसाफ पार्टी के प्रमुख इमरान ख़ान ने पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस यानी 14 अगस्त को इस्लामाबाद में स्वतंत्रता मार्च निकालने की घोषणा की है.

सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सड़कों पर बड़े-बड़े कंटेनर्स लगाए हैं और कई इलाकों में मोबाइल फ़ोन सेवा को भी बाधित किया गया है.

जांच आयोग

शरीफ़ ने कहा, "पाकिस्तान को हम ऐसा जंगल नहीं बनने देंगे जहाँ जिसकी लाठी उसकी भैंस का क़ानून चलने लगे. सड़कों और चौराहे पर हंगामा करने वाले मुट्ठी भर लोगों को करोड़ों लोगों की राय को बंधक नहीं बनाने देंगे."

इमरान ख़ान

प्रधानमंत्री ने पिछले कुछ दिनों में लगातार शीर्ष सलाहकारों से मुलाक़ात की है.

उन्होंने पिछले साल हुए आम चुनाव में धाँधली के आरोपों की जांच के लिए न्यायिक आयोग गठित करने की भी घोषणा की.

नवाज़ शरीफ़ ने कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से एक तीन सदस्यीय आयोग गठित करने का अनुरोध किया है. आयोग पूरी जांच के बाद अपनी सिफारिशें देगा.

इस बीच, इमरान ख़ान ने कहा है कि किसी भी जांच से पहले प्रधानमंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)