'ये पागलपन तुरंत रुकना चाहिए':बान की मून

  • 3 अगस्त 2014
ग़ज़ा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने ग़ज़ा में संयुक्त राष्ट्र-संचालित एक स्कूल के नज़दीक मिसाइल हमले को ''नैतिक अत्याचार और आपराधिक कृत्य'' क़रार दिया है.

फलस्तीनियों का कहना था कि इस हमले में कम से कम दस लोग मारे गए.

महासचिव ने लड़ाई तुरंत रोकने का ये कहते हुए आह्वान किया कि ''ये पागलपन तुरंत रुकना चाहिए."

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि दक्षिणी राफ़ाह शहर में धमाका इसराइली हवाई हमले की वजह से हुआ था.

हज़ारों विस्थापित लोगों ने राफ़ाह के इस स्कूल में शरण ले रखी है.

इसराइली सेना ने हमले को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की है. इसराइल ने गज़ा पर हमले तेज़ कर दिए हैं.

गज़ा के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि रविवार को इसराइली बमबारी में कम से कम 30 लोग मारे गए. हमास की ओर से भी इसराइल में रॉकेट दागे जा रहे हैं.

ताज़ा हमले इसराइल के ग़ायब सैनिक हाडर गोल्डिन की मौत की पुष्टि के बाद हुए हैं.

गज़ा में जारी संघर्ष में अब तक 66 इसराइली मारे गए हैं, जिनमें 64 सैनिक हैं.

'खाने की क़तार में थे लोग'

गज़ा के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़ 8 जुलाई से अब तक 1740 नागरिक मारे गए हैं और 9080 घायल हैं.

ग़ज़ा

पिछले हफ़्ते संयुक्त राष्ट्र संचालित एक स्कूल पर बमबारी में 16 लोग मारे गए थे. इस हमले की विश्व भर में कड़ी निंदा हुई थी.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि ताज़ा हमले में एक मिसाइल ने स्कूल के मुख्य दरवाज़े को तब निशाना बनाया, जब लोग खाने के लिए क़तार में लगे थे.

फ़लस्तीनी अधिकारियों के मुताबिक़ इस हमले में कम से कम 30 लोग घायल हुए हैं.

इसराइल का कहना है कि वह हमास की सुरंगों को बर्बाद करके ही दम लेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार