सोशल मीडिया पर तुर्क महिलाओं के ठहाके

  • 1 अगस्त 2014

तुर्की में महिलाएं बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पर अपनी हंसती हुई तस्वीरें पोस्ट कर रही है आख़िर क्यों?

तुर्की के उप प्रधानमंत्री बुलेंट एरिंक ने सोमवार को एक भाषण में कहा था कि महिलाएं को सार्वजनिक रूप से नहीं हंसना चाहिए.

उन्होंने कहा था, "शालीनता बहुत महत्वपूर्ण है. महिलाओं को सार्वजनिक रूप से नहीं हंसना चाहिए."

उनकी इस टिप्पणी पर हज़ारों महिलाओं ने सोशल मीडिया पर हंसती हुई तस्वीरों के साथ अपनी ज़बरदस्त प्रतिक्रिया दर्ज की है.

'क़हक़हा' हैशटैग से क़रीब तीन लाख ट्वीट किए गए हैं.

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने सरकार को सलाह दी है कि वो महिलाओं के सार्वजनिक रूप से हंसने पर रोक लगाने के बजाय बलात्कार, घरेलू हिंसा, और कम उम्र में लड़कियों की शादी जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करे.

(बीबीसी ट्रेंडिंग सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रही ख़बरों और अन्य सामग्री पर नज़र रखता है और उनका विश्लेषण करता है. बीबीसी ट्रेंडिंग की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)