हिरोशिमा : परमाणु बम गिराने वाले की मौत

  • 30 जुलाई 2014
थियोडोर वान क्रिक

हिरोशिमा पर परमाणु बम गिराने वाले अमरीकी विमान के पायलट थियोडोर वान क्रिक का 93 साल की आयु में जार्जिया में निधन हो गया.

'डच' के नाम से मशहूर क्रिक 'इनोला गे' नामक विमान के चालक दल के अंतिम जीवित सदस्य थे. 24 साल की आयु में उनकी तैनाती इस विमान पर हुई थी.

छह अगस्त 1945 को जापानी शहर हिरोशिमा पर हुए परमाणु हमले में क़रीब एक लाख चालीस हज़ार लोगों की मौत हुई थी.

कोई पछतावा नहीं

वान क्रिक को अपने किए पर कोई पछतावा नहीं था. उन्होंने इसका यह कहकर बचाव किया था कि इस वजह से दूसरा विश्व युद्ध ख़त्म हो गया.

उनके बेटे डॉम वान क्रिक ने अपने पिता को श्रद्धांजलि देते हुए समाचार एजेंसी एपी से कहा,'' मैं जानता हूँ कि उन्हें युद्ध विजेता के रूप में जाना जाता है. लेकिन हम उन्हें एक अच्छे पिता के रूप जानते हैं.''

अमरीकी विमान इनोला गे के चालक दल के सदस्य

उन्होंने बताया कि उनके पिता की सेवानिवृत्त लोगों के लिए बने घर में प्राकृतिक मौत हुई.

वान क्रिक का अंतिम संस्कार अगले हफ़्ते पेंसेल्विनिया में होने की उम्मीद है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार