BBC navigation

कज़ाकिस्तानः अरे, गटर में ये कौन गिरा है!

 शुक्रवार, 4 जुलाई, 2014 को 16:20 IST तक के समाचार
कजाकिस्तान, कृत्रिम पांव

खुले गटर की समस्या से निजात पाने के लिए कज़ाकिस्तान में कलाकारों ने एक अनूठा तरीका अपनाया है.

क्लिक करें गुरिल्ला क्रिएटिव हाउस ने शहर के करीब 10 गड्ढों और गटरों में नकली पैर लगाए ताकि लोगों को लगे कि कोई उसमें सिर के बल गिरा हुआ है.

खुले गटर अकेले भारत के लिए ही गंभीर मसला नहीं हैं बल्कि कज़ाकिस्तान भी इससे अछूता नहीं है.

कज़ाकिस्तान की पूर्व राजधानी अल्माटी की गलियों-सड़कों पर खुले गटर दिनों-दिन गंभीर समस्या बनते जा रहे हैं.

नकली पैर लगे गड्ढे पैदल चलने वालों और ड्राइवरों को सावधान करते हैं कि रुको, आगे गटर है.

क्रिएटिव हाउस के कलाकारों ने क्लिक करें टेंगरीन्यूज वेबसाइट को बताया, "हमने एक तरह के व्यंग्य का इस्तेमाल किया है. सड़कों पर पड़े गड्ढ़ों के बारे में बिना कोई हाय-तौबा मचाए हमने इस समस्या को बेहद साधारण तरीके से लोगों के सामने रखा है. हमने इसे अलग ढंग से सुलझाने की कोशिश की है."

लुगदी के पांव

कजाकिस्तान, कृत्रिम पांव

कलाकारों ने इन कृत्रिम पैरों को चटख रंग के मोजे पहनाए ताकि ये दूर से ही नजर आ सकें.

ये पैर कागज की लुगदी के बने होते हैं और पैदल चलने वालों को इससे कोई नुक़सान नहीं पहुंचता.

एक गुरिल्ला कार्यकर्ता ने बताया, "अब लोग इस समस्या पर तवज्जो देने लगे हैं. हमारी इस कोशिश को सोशल मीडिया पर सराहा जाने लगा है."

कजाकिस्तान, कृत्रिम पांव

इससे पहले इन्हीं गुरिल्ला कलाकारों ने क्लिक करें कजाकिस्तान में इससे मिलता जुलता एक और अभियान चला कर लोगों का दिल जीत लिया था.

लोग कूड़े को सही जगह डालें इसके लिए कलाकारों ने कूड़े के ढेर के पास सांड़ की आंखें लगाई.

लोगों को जागरुक करने का ये तरीका भी सफल रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(क्लिक करें बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें क्लिक करें ट्विटर और क्लिक करें फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.