BBC navigation

तेल उत्पादक ईरान में टंकी फुल कराने की होड़

 शुक्रवार, 25 अप्रैल, 2014 को 18:07 IST तक के समाचार
ईरान का पेट्रोल पंप

ईरान में पेट्रोल पर दी जाने वाली सब्सिडी में भारी कटौती की गई है. आधी रात शुक्रवार से देश में पेट्रोल की कीमतों में 75 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो गई है.

इससे पहले कि तेल की कीमतों में की वृद्धि लागू होती, आम लोग बड़ी संख्या में अपनी कारों की टंकी फुल कराने पेट्रोल पंपों पर नज़र आए.

राष्ट्रपति हसन रूहानी की सरकार को उम्मीद है कि इस क़दम से अर्थव्यवस्था को सहारा मिलेगा जो पश्चिमी प्रतिबंधों के चलते पस्त हो चुकी है.

क़ीमतों में इस बढ़ोत्तरी के बावजूद ईरान में पेट्रोल दुनिया के अन्य के हिस्से के मुक़ाबले सस्ता है, लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि इस बढ़ोत्तरी को देश में पसंद नहीं किया जाएगा.

ईरान में क़रीब एक चौथाई युवा बेरोज़गार हैं या अपनी योग्यता से कमतर काम कर रहे हैं.

ईरान में सब्सिडी के चलते बोतलबंद पानी के मुक़ाबले पेट्रोल अधिक सस्ता है.

महंगाई

ताज़ा फ़ैसले के बाद से पेट्रोल की कीमतें लगभग 16.5 रुपये से बढ़कर तक़रीबन 23.8 रुपये प्रति लीटर हो गई है.

"हम प्रांतों, शहरों और ग्रामीण इलाकों में इन योजनाओं को लागू करने की तैयारी दो महीनों से कर रहे थे."

अब्दोलरजा रहमानी फाजिल, ईरान के गृह मंत्री

डीजल और प्राकृतिक गैस की क़ीमतों में भी बढ़ोतरी हुई है.

वर्ष 2007 में जब पहली बार सस्ते पेट्रोल की योजना शुरू की गई थी तो कुछ पेट्रोल पंपों पर दंगे हो गए थे. हालांकि इस बार कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा के बाद कहीं से अशांति की ख़बर नहीं आई है.

ईरान की सरकारी एजेंसी ने गृह मंत्री अब्दोलरजा रहमानी फाजिल के हवाले से बताया, "हम प्रांतों, शहरों और ग्रामीण इलाकों में इन योजनाओं को लागू करने की तैयारी दो महीनों से कर रहे थे."

इस साल अभी तक ईरानियों के बिजली बिल में 24 प्रतिशत और पानी के बिल में 20 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो चुकी है.

राष्ट्रपति रूहानी इस समय ईरान के विवादित क्लिक करें परमाणु कार्यक्रम से पीछे हटने और बदले में क्लिक करें अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के लिए दुनिया के प्रमुख देशों से बातचीत कर रहे हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉइड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पेज से भी जुड़ सकते हैं)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.