चीन में सभी सर्च को 'एन्क्रिप्ट' करेगा गूगल

  • 18 मार्च 2014
गूगल

गूगल ने चीन में लोगों की सर्च को एन्क्रिप्ट (कूट रूप देना) करना शुरू किया है.

वॉशिंगटन पोस्ट अख़बार के अनुसार माना जा रहा है कि सर्च इंजन का यह क़दम यूज़र्स की इंटरनेट पर सर्फ़िंग को सरकारी छानबीन से बचाने के लिए उठाया गया है.

इसे अमरीका की नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी (एनएसए) के वेब ब्राउज़िंग हैबिट्स पर निगरानी के स्तर को लेकर लगातार हो रहे खुलासों पर प्रतिक्रिया के रूप में भी देखा जा रहा है.

गूगल का कहना है कि अब यह दुनिया भर में सर्च में इस्तेमाल होने वाले सभी विषयों को "ख़ुद-ब-ख़ुद" ही एन्क्रिप्ट कर रहा है.

अमरीका और ब्रिटेन जैसे अन्य देशों में यूज़र्स के पास सर्च को एन्क्रिप्ट करने का विकल्प 2010 से ही उपलब्ध है.

सेंसरशिप पर विवाद

गूगल की प्रवक्ता निक्की क्रिस्टॉफ़ ने एक बयान में कहा, "पिछली गर्मियों में हुए ख़ुलासों के आधार पर अपने नेटवर्क को मज़बूत करने की हमारी ज़रूरत समझी जा सकती है."

व्हिसलब्लोअर (आवाज़ उठाने वाला) एडवर्ड स्नोडन द्वारा हासिल हुए गए दस्तावेज़ों से पता चला है कि एनएसए की गूगल और अन्य वेब फ़र्म्स के डेटा सेंटर्स तक पहुंच लगातार बनी हुई थी.

चीन में नागरिकों की वेब ब्राउज़िंग और सोशल मीडिया पर सक्रियता पर एक बेहद परिष्कृत प्रणाली के ज़रिए नज़र रखी जाती है और लोगों को संवेदनशील विषयों पर जानकारी हासिल करने या साझा करने से रोका जाता है.

बायडू

क्रिस्टॉफ़ का कहना है कि विषय को एन्क्रिप्ट करना उन बहुत से सुधारों में से एक है, जो गूगल ने लोगों की निजता बनाए रखने के लिए पिछले कुछ महीनों में उठाए हैं.

गूगल ने चीन में अपनी मौजूदगी साल 2010 के बाद से कम कर दी थी क्योंकि इसका अधिकारियों से सर्च को सेंसर करने और सर्च को सरकार-अनुमदित वेबसाइट्स की ओर मोड़ देने को लेकर विवाद हो गया था.

इसका मतलब यह है कि चीन में इंटरनेट सर्च में गूगल का हिस्सा बेहद कम क़रीब 5% ही है.

ज़्यादातर चीनी स्वदेश-विकसित बाएडू सर्च इंजिन का इस्तेमाल करते हैं जो आधिकारिक सेंसरशिप नीति को मानता है.

यूरोप में यूज़र्स की निजता बनाए रखने के लिए पर्याप्त कोशिशें न करने के लिए गूगल की काफ़ी आलोचना हुई थी.

जनवरी में यूरोपीय यूनियन की न्याय आयुक्त विवियन रेडिंग ने कहा था कि उन फ़र्म्स पर भारी जुर्माना लगा जाएगा, जो निजी आंकड़ों का दुरुपयोग करते हैं.

उन्होंने कहा था कि गूगल पर आंकड़ों में सेंध के लिए लगाया गया जुर्माना "जेब ख़र्च" भर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार