BBC navigation

भारतीय मर्द घर में तिनका भी नहीं उठाते

 शनिवार, 8 मार्च, 2014 को 13:21 IST तक के समाचार

भारतीय महिलाओं को अपने पुरुषों के बारे में अच्छी तरह से पता है कि वे घर में ज़रा सा भी हाथ नहीं बंटाते.

एक रिपोर्ट में पता चला है कि घरेलू कामों में हाथ बंटाने के मामले में भारतीय मर्द अन्य देशों के मुक़ाबले सबसे पीछे हैं.

लैंगिक असमानता पर तैयार की गई रिपोर्ट में आर्गेनाइज़ेशन फ़ॉर इकोनॉमिक कोऑपरेशन एण्ड डेवेलपमेंट ने यह ख़ुलासा किया है.

लैंगिक समानता के कई मसलों पर भारत की रैंकिंग लगातार नीचे बनी हुई है.

हाल में लैंगिक समानता इंडेक्स में संयुक्त राष्ट्र ने 148 देशों की सूची में भारत को 132वें पायदान पर रखा है.

पुरुष प्रति दिन औसतन कितने मिनट घरेलू कामों के लिए समय देते हैं इस आधार पर देशों की रैंकिंग की गई है.

भारतीय मर्द सबसे पीछे

इस सूची में स्लोवेनिया शीर्ष पर है जहां पुरुष प्रति दिन 114 मिनट घरेलू कामों को देते हैं जबकि 19 मिनट के साथ भारत सबसे निचले पायदान पर है.

दक्षिण अफ़्रीक़ा में पुरुष घरेलू कामों में प्रतिदिन 69 मिनट समय देते हैं.

जबकि चीन में 48 मिनट, जापान में 24 मिनट और तुर्की में 21 मिनट तक पुरुष घरेलू काम में हाथ बंटाते हैं.

देश में महिलाओं के प्रति बढ़ती हिंसा के मुक़ाबले घरेलू कामों का मुद्दा यहां बहुत दबा हुआ है.

लेकिन यह उस तथ्य के बारे में एक और संकेत है कि महिलाओं की बहुत मामूली आर्थिक हिस्सेदारी भारत के आर्थिक विकास में सबसे बड़ी बाधा बनी हुई है.

हो सकता है कि यह स्थिति बदल जाए क्योंकि गिरती विकास दर को रोकने के लिए नई योजनाओं के बारे में सोचा जा रहा है, लेकिन अभी इसमें काफ़ी वक़्त है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे क्लिक करें फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.