BBC navigation

पाकिस्तान: दो महीनों में पोलियो के 24 मामले

 रविवार, 2 मार्च, 2014 को 11:23 IST तक के समाचार
पाकिस्तान पोलियो

पाकिस्तान में पोलियो से संबंधित प्रधानमंत्री की विशेष सेल की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार देश में 2014 में अब तक पोलियो के 24 मामले सामने आ चुके हैं.

पिछले साल जनवरी और फ़रवरी के महीनों में इसके मुक़ाबले तीन मामले सामने आए थे.

पाकिस्तान में बच्चों को पोलियो से बचने की दवा पिलाने वाली टीमों पर अकसर हमले होते हैं. पिछले दो साल से इस तरह के हमलों में चालीस से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं.

शनिवार को भी ख़ैबर पख़्तूनख़्वा प्रांत में पोलियो टीम पर हुए हमले में दस लोग मारे गए.

क्लिक करें पाकिस्तान: पोलिया टीम पर हमला, दस की मौत

तालिबानी चरमपंथी पोलियो मुहिम का यह कहकर विरोध करते हैं कि इसकी आड़ में अतंरराष्ट्रीय स्तर पर जासूसी होती है.

कबायली इलाक़े

पाकिस्तान पोलियो

पाकिस्तान में पोलियो की खुराक देने वाली टीम पर हमले होते रहे हैं.

शनिवार को सामने आए पोलियो के दो नए मामलों के बाद कबायली इलाक़ों में इस साल पाए जाने वाले पोलियो मामलों की संख्या 21 हो गई. कबायली इलाक़ों में सबसे ज़्यादा प्रभावित इलाक़ा उत्तरी वज़ीरिस्तान है.

क्लिक करें अमरीका में फैली पोलियो जैसी बीमारी

इस साल कबायली इलाक़ों के अलावा ख़ैबर पख़्तूनख़्वा प्रांत में भी पोलियो के तीन मामले सामने आए हैं.

पिछले हफ़्ते विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि पेशावर दुनिया भर में पोलिया वायरस का सबसे बड़ा गढ़ है.

पाकिस्तान दुनिया के उन तीनों देशों में है जहाँ पोलिया से छुटकारा नहीं पाया जा सका है. ऐसे दो अन्य देश नाइजीरिया और अफ़गानिस्तान हैं.

पिछले साल सीरिया और मिस्र में पाए जाने वाले पोलिया वायरस का संबंध पाकिस्तान के सिंध प्रांत से था. चीन में भी पोलियो वायरस की एक किस्म पाकिस्तान से ही गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.