एक अपार्टमेंट, सात सूटकेस और 50 लाख डॉलर

  • 23 जनवरी 2014
ऑस्ट्रेलियाई डॉलर सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय मुद्राएँ

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में पुलिस ने एक अपार्टमेंट से सात सूटकेस में 50 लाख अमरीकी डॉलर बरामद किया है. इसे ऑस्ट्रेलिया में जब्त की गई अब तक की सबसे बड़ी नकदी के तौर पर देखा जा रहा है.

समाचाए एजेंसी एपी के मुताबिक गिरफ्तार किया गया व्यक्ति 58 वर्षीय अमरीकी नागरिक है और बुधवार को उसे सिडनी की एक अदालत के समक्ष पेश किया गया. गिरफ्तार व्यक्ति पर लगाए आरोपों में किसी को अधिकतम तीन साल तक की सजा सुनाई जा सकती है.

(आसमान से गिरा, नोटों भरा बैग)

ऑस्ट्रेलिया में विदेश मुद्रा की अवैध लेन देन पर बीते एक साल से नजर रखी जा रही है और नकदी की ये बरामदगी इसी का नतीजा है.

गुरुवार को की गई इस बरामदगी के बारे में पुलिस का कहना है कि उन्होंने 20 से ज्यादा देशों में सक्रिय अंतरराष्ट्रीय स्तर के एक हवाला रैकेट का भंडा फोड़ किया है. उनका कहना है कि पैसों की अवैध लेन देन के कारोबार में लगे इस गिरोह के तार हिज्बुल्लाह से जुड़े हो सकते हैं.

समाचार एजेंसी एफ़पी ने ऑस्ट्रेलियाई अपराध आयोग के हवाले से बताया है कि एक साल की कार्रवाई में 512 मिलियन अमरीकी डॉलर या तकरीबन 31 अरब से भी ज्यादा कीमत की नशीली दवाएँ और परिसंपत्तियाँ जब्त की हैं.

छद्म नाम 'एलिगो'

पुलिस की कार्रवाई को छद्म नाम 'एलिगो' दिया गया था और इसके तहत अवैध मोटरसाइकिल गिरोह, मानव तस्कर और अन्य गुटों को निशाना बनाया गया.

(36 करोड़ की दवाएँ बरामद)

ऑस्ट्रेलियाई अपराध आयोग के मुताबिक इस अभियान में 18 संगठित आपराधिक गिरोहों पर कार्रवाई की गई और 20 से भी ज्यादा देशों में 128 लोगों पर नजर रखा गया. सूचना जुटाने के लिए कई अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों से मदद ली गई.

हालांकि आयोग ने उन 20 देशों के नाम नहीं बताए लेकिन उसके कार्यकारी प्रमुख पॉल जेवटोविक ने बताया, "हकीकत ये है कि मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्वी एशिया के देश इसमें शामिल हैं."

उन्होंने कहा, "ऑस्ट्रेलिया में संगठित आपराधिक गिरोहों के लिए नशीली दवाओं का कारोबार उनकी आमदनी का एक बड़ा जरिया है लेकिन और भी कई चीजें हैं जैसे कि निवेश से जुड़ी धोखाधड़ी और पहचान चुराने के मामले."

एलिगो के तहत अब तक 105 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उन पर 109 आरोप लगाए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)