BBC navigation

बांग्लादेश में समलैंगिकों के लिए आई 'रूपबान'

 सोमवार, 20 जनवरी, 2014 को 04:37 IST तक के समाचार
फ़ाइल फ़ोटो: समलैंगिक, भारत

बांग्लादेश के समलैंगिक समुदाय ने अपनी किस्म की पहली पत्रिका आरंभ की है जिसका उद्देश्य देश की रूढ़िवादी बहुसंख्यक मुस्लिम आबादी में समलैंगिकता के प्रति सहनशीलता की भावना को बढ़ावा देना है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़, इस पत्रिका का नाम 'रूपबान' है और इसके संपादक रसल अहमद का कहना है कि ''इससे बांग्लादेश में रहने वाले समलैंगिकों के प्रति जागरुकता में इज़ाफ़ा होगा.'''

रसल अहमद का ये भी कहना है कि ये पत्रिका खुलेआम बाज़ार में नहीं मिलेगी क्योंकि इससे समलैंगिक-विरोधी टकराव की आशंका पैदा हो सकती है.

'लोककथा नायक रूपबान'

पत्रिका का नाम लोककथा नायक रूपबान से लिया गया है जो बांग्लादेश में एक ऐसे क़िरदार के तौर पर जाना जाता है जो प्रेम की शक्ति का प्रतीक है, जो हर सामाजिक बंधन को तोड़ने की ताक़त रखता है.

बांग्लादेश के क़ानून के मुताबिक़, यदि कोई औरत किसी औरत से या कोई मर्द किसी मर्द के साथ यौन संबंध रखता है तो इसे एक अपराध माना जाता है जिसके लिए उम्रक़ैद तक की सज़ा का प्रावधान है.

ढाका ट्रिब्यून में छपी ख़बर के मुताबिक़, 'रूपबान' को लॉन्च करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में ब्रितानी उच्चायुक्त रॉबर्ट गिब्सन और नामी बैरिस्टर सारा हुसैन जैसे लोग मौजूद थे.

ख़बर में कहा गया है कि इस कार्यक्रम में सारा हुसैन के अलावा कोई दूसरी महिला मौजूद नहीं थी और कार्यक्रम में आए सभी मेहमानों ने इस बात को गंभीरता से लिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.