100 साल का हुआ क्रॉसवर्ड

  • 28 दिसंबर 2013

दुनिया के तमाम समाचार पत्रों में छपने वाला एक सबसे लोकप्रिय सेक्शन 'क्रॉसवर्ड' 100 साल का हो गया है. 100 साल पहले 21 दिसंबर के दिन ही न्यूयॉर्क वर्ल्ड न्यूज़पेपर में पहला प्रोटो-क्रॉसवर्ड छपा था.

एक बार एक समाचार पत्र के संपादक ने कहा था कि आप अपने पाठकों को ख़ुश करने के लिए अख़बार की राजनीतिक ख़बरों में बदलाव कर सकते हैं, तथ्यों में ग़लती हो सकती है लेकिन आप क्रॉसवर्ड के साथ घालमेल नहीं कर सकते.

साल 1997 में गार्जियन ने अख़बार की डिज़ाइन में बदलाव किया और क्रॉसवर्ड को उसी पेज पर रखा जिस पेज पर वह पहले प्रकाशित होता था.

इस मामूली बदलाव पर ही तमाम लोगों ने अख़बार को फ़ोन और ई-मेल कर दिया.

इस तरह अख़बार के क्रॉसवर्ड एडिटर को यह समझ में आ गया कि इसमें मामूली बदलाव भी पाठक स्वीकार नहीं कर सकते हैं.

बेहद लोकप्रिय

आप क्रॉसवर्ड की लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी से लगा सकते हैं कि अगर किसी घर में क्रॉसवर्ड सॉल्व करने वाले एक से अधिक हैं तो उनमें इसको लेकर लड़ाई होना तय है.

इसमें अक्सर अख़बार का फटना तय माना जाता है. बचपन और टीनएज में हमने भी यही किया है.

घर में क्रॉसवर्ड को लेकर लड़ाई होना आम बात थी. पाठकों के लिए क्रॉसवर्ड अख़बार में ठहरने की जगह होती है.

अख़बार गार्जियन और फाइनेंशियल टाइम्स के लिए कई दशकों तक क्रॉसवर्ड सेट करने वाले रेव जॉन ग्राहम पाठकों के बीच बेहद लोकप्रिय रहे.

अरॉकारिया नाम से लोकप्रिय ग्राहम के क्रॉसवर्ड के बारे में अभिनेत्री प्रुनेला स्केल्स का कहना है कि विस्तर पर सोने जाते समय क्रॉसवर्ड उनका साथी होता है.

यहां तक कि कुछ लोग अख़बार हाथ लगते ही क्रॉसवर्ड पर चले जाते हैं और उसे पूरा करने के बाद अख़बार को फेंक देते हैं.

शनिवार को क्रॉसवर्ड की 100वीं वर्षगांठ है. इस दौरान इसने गुपचुप तरीक़े से जीवन को ख़ूब प्रभावित किया.

आज भी तमाम लोग क्रॉसवर्ल्ड को भरने में गहरी रुचि दिखाते हैं.

यह हर उम्र को लोगों में ख़ूब लोकप्रिय है लेकिन ऐसा भी देखा गया है कि कई महिलाओं के लिए इसे सॉल्व करना समय काटने का एक तरीक़ा है.

युवाओं में रूचि

इसी तरह रिटायर लोगों और बच्चों के बीच यह ज्यादा लोकप्रिय है क्योंकि इसे सॉल्व करने के लिए उनके पास भरपूर समय रहता है.

एक सर्वे के मुताबिक़ ब्रिटेन में क्रॉसवर्ड बेहद लोकप्रिय है. यहां के 72 फीसदी युवा क्रॉसवर्ड को सॉल्व करने में रुचि रखते हैं.

सप्ताह में कम से कम एक बार 10 में से तीन लोगों को क्रॉसवर्ड सॉल्व करते हुए पाया गया.

इस सर्वे का सबसे रोचक तथ्य यह था कि हर पांच में एक महिला या पुरुष क्रॉसवर्ड के आधार पर अख़बार का चुनाव करते हैं.

इस तरह सप्ताह में कम से कम से 1.47 करोड़ लोग क्रॉसवर्ड सॉल्व करते हैं जबकि क़रीब 73 लाख लोग क्रॉसवर्ड के आधार पर समाचार पत्र का चयन करते हैं.

अख़बारों के प्रसार में तेज़ी से आ रही गिरावट के बीच क्रॉसवर्ड संपादकों को कुछ क्षण के लिए राहत दे सकता है, क्योंकि अख़बार ख़रीदने के फ़ायदों में क्रॉसवर्ड भी शामिल है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार