BBC navigation

26/11: ताज होटल पर ब्रिटेन में चलेगा मुक़दमा

 शुक्रवार, 20 दिसंबर, 2013 को 11:27 IST तक के समाचार
विल पाइक

26/11 के मुंबई में विल पाइक अपंग हो गए थे. लंदन हाईकोर्ट में मामले के सुनवाई के लिए पहुंचते हुए.

2008 के मुंबई हमले के दौरान ताज होटल में अपंग हुए ब्रिटिश नागरिक विल पाइक के मामले की सुनवाई अब ब्रिटेन के न्यायालय में होगी. इस मामले पर ब्रिटेन में हुई सुनवाई में फ़ैसला उनके पक्ष में आया.

लंदन में बीबीसी संवाददाता अपूर्व कृष्ण ने बताया कि विल पाइक क्लिक करें 26/11 के मुंबई हमले दौरान बचाव करते समय ताज महल पैलेसे होटल की 50 फ़ीट ऊंची खिड़की से कूद गए थे. उसके बाद से वो अपंग हो गए थे.

विल पाइक का कहना है, "मेरी यह स्थिति होटल में सुविधाओं की कमी के कारण हुई है. होटल को मुआवज़ा देना चाहिए."

कहां चले मुक़दमा

"भारत में इस मुक़दमे पर फ़ैसला आने में 20 साल से ऊपर लग जाएंगे. इसलिए ब्रिटेन में मुक़दमा की सनवाई ज़्यादा उपयुक्त होगी."

स्टीवर्ट, न्यायाधीश, रॉयल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस लंदन

लेकिन मुआवज़े को लेकर मुक़दमा कहाँ चलाया जाए,पहले इसी बात पर मुक़दमा किया गया. क्योंकि टाटा समूह की होटल कंपनी का कहना था कि इस मामले पर मुक़दमा भारत में होना चाहिए.

विल पाइक अपंग है और ह्वील चेयर पर रहते हैं. उनका कहना है, "यह मेरे लिए संभव नहीं है कि मैं भारत जाकर मुक़दमा लड़ पाऊं."

ताज़ा फ़ैसले में लंदन के हाईकोर्ट ने माना है कि यह मुक़दमा ब्रिटेन की अदालत में ही चलना चाहिए. रॉयल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस के न्यायाधीश स्टीवर्ट ने फ़ैसला सुनाते हुए कहा, ''भारत में इस मुक़दमे पर फ़ैसला आने में 20 साल से ऊपर लग जाएंगे. इसलिए ब्रिटेन में मुक़दमा की सनवाई ज़्यादा उपयुक्त होगी."

फ़ैसले में समय

इस मामले पर होटल का कंपनी का कहना था कि यह मामला उनके अधिकार क्षेत्र में यह मुक़दमा नहीं आता है. लेकिन विल पाइक के वकील का कहना था भारत में न्याय प्रक्रिया इतनी सुस्त है कि फ़ैसले में 20-25 साल लगेंगे. जबकि ब्रिटेन में इसका फ़ैसला दो साल में हो जाएगा.

अदालत ने इस बात को माना और जज ने कहा, "क्लिक करें विल पाइक की उम्र अभी 34 साल है और पूरी ज़िंदगी बाकी है. यह मुक़दमा अगर चलता है तो 36 साल की उम्र तक फ़ैसला आ जाएगा. लेकिन अगर यही मामला भारत में चलता है तो शायद उनको 50 से 55 साल की उम्र में कोई फ़ैसला मिल पाएगा."

ताज होटल

ताज होटल पर हमले के वक़्त पाइक अपनी गर्लफ़्रेंड के साथ होटल में मौजूद थे.

भारतीय होटल कंपनी अभी भी लंदन उच्च न्यायालय के फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील कर सकती है.

बीबीसी संवाददाता ने बताया कि इस मामले का पहला मोड़ अभी साफ़ हुआ है कि यह मुक़दमा ब्रिटेन में चलेगा. इसके बाद क्षतिपूर्ति की बात आएगी कि विल पाइक को कितनी क्षतिपूर्ति मिलनी चाहिए.

विल पाइक जब मुंबई के होटल में ठहरे थे, उस समय उनकी गर्लफ़्रेंड भी वहां थीं, जिनको बाद में बचाया गया था. अब वो भी शायद क्षतिपूर्ति के लिए मुक़दमा कर पाएंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.