BBC navigation

मदीबा के चाहनेवालों, अब लौट जाओ!

 शुक्रवार, 13 दिसंबर, 2013 को 23:00 IST तक के समाचार
नेल्सन मंडेला

राजधानी प्रिटोरिया में नेल्सन मंडेला के शव के दर्शन के लिए हज़ारों लोगों की भीड़ इकट्ठा हो रही है. पार्थिव शरीर के दर्शन का समय स्थानीय वक़्त के मुताबिक़ 17.45 बजे ख़त्म हो गया लेकिन लोगों की भारी भीड़ वहां से जाने का नाम नहीं ले रही.

ये भीड़ तब और बेचैन हो उठी जब पुलिस ने कहा कि दर्शन का समय ख़त्म होने के बाद यूनियन बिल्डिंग के दरवाज़े बंद कर दिए जाएंगे. दक्षिण अफ़्रीका के नेता का शव वहां दर्शन के लिए रखा गया है.

पिछले तीन दिनों के दौरान वहां लाखों लोग शव के दर्शन के लिए पहुंचे.

रविवार को मंडेला का क्लिक करें अंतिम संस्कार होना है और उससे पहले हज़ारों लोग पूरे प्रिटोरिया में सड़कों के किनारे उनके ताबूत को देखने के लिए उमड़ पड़े हैं. अंतिम संस्कार मंडेला के पैतृक गांव कुनू में होगा. 5 दिसंबर को उन्होंने अंतिम सांस ली. उनकी उम्र 95 साल थी.

रंगभेद विरोधी क्लिक करें आंदोलन के नेता का पार्थिव शरीर दक्षिण अफ्रीका की यूनियन बिल्डिंग में लोगों के दर्शन के लिए रखा गया है.

यही वो जगह है जहां उन्होंने साल 1994 में दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी.

प्रशासन ने भीड़ से कहा है कि वो पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन के लिए क़तार में आंए.

पैतृक भूमि

"मंडेला के अंतिम दर्शन के लिए पहले दिन 12,000 से 14,000 लोग आए. दूसरे दिन हर तीसरे सेकेण्ड में दो लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी."

फुमला विलियम्सः सरकारी प्रवक्ता

सरकार ने जब से क्लिक करें आम जनता से कहा है कि 50,000 से ज्यादा लोग दर्शन के लिए इंतजार कर रहे हैं और वो इस बात की गारंटी नहीं दे सकती कि सभी को इसके लिए वक़्त मिल पाएगा.

मंडेला के पार्थिव शरीर को हवाई जहाज से पूर्वी केप के ग्रामीण इलाके ले जाया जाएगा. वे यहीं पले-बढ़े थे.

सरकार ने कहा है कि वह इस बात की गारंटी नहीं दे सकती कि जो लोग बस का इंतजार कर रहे हैं उनमें से सभी को भीतर दर्शन के लिए प्रवेश करने का मौका मिल सकेगा.

बीबीसी के अनुसार उस जगह अच्छी खासी भीड़ मौजूद है. यह भीड़ यूनियन बिल्डिंग के बगीचे में पहुंचने के लिए जो कतार बनी है, उसे तोड़ कर आगे जाने के लिए बेताब दिखी. मगर उन पर अधिकारियों ने काबू पा लिया.

हर तीसरे सेकेण्ड 2 लोग

नेल्सन मंडेला

सरकारी प्रवक्ता फुमला विलियम्स ने एक बयान में कहा, "मदीबा नाम से लोगों में लोकप्रिय मंडेला के अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है."

उन्होंने बताया, "पहले दिन 12,000 से 14,000 लोग मंडेला के दर्शन के लिए आए. दूसरे दिन हर तीसरे सेकेण्ड में दो लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी."

वे आगे कहती हैं कि भीड़ के बेकाबू हो जाने का डर है और "यही वजह है कि जिन्हें अब तक राष्ट्रपति मंडेला के अंतिम दर्शन का अवसर नहीं मिला है उनसे अनूरोध है कि वे यहां न आएं, और अपने तरीके से प्रिय नेता को विदाई दें."

बीबीसी संवाददाता के अनुसार मंडेला का पार्थिव शरीर जिस ताबूत में सहेज कर रखा गया है उसे शीशे के पीछे से देखा जा सकता है. ताबूत के दोनों तरफ सफेद वर्दी में नौसेना के अधिकारी अपनी तलवार नीची किए खड़े हैं.

बेटी की जिद

नेल्सन मंडेला

सूत्रों के अनुसार वहां आए कई लोग मंडेला के दर्शन के बाद बेहोश हो गए.

अपने प्रिय नेता नेल्सन मंडेला को आखिरी बार नजदीक से देखने और अपनी श्रद्धांजलि देने लोग बहुत दूर दूर से आए हैं.

नोसीवे मादुना और उनकी 14 साल की बेटी 220 किलोमीटर की दूरी तय कर प्रिटोरिया पहुंचे हैं.

उन्होंने रात एक पेट्रोल पंप पर गुजारी और आधी रात से ही कतार लगाने लगे ताकि दर्शन करने से वे कहीं वंचित न रह जाएं.

नोसीवे ने एएफपी समाचार एजेंसी को बताया, "मेरी बेटी ने जिद की कि हम यहीं सो जाएं और कल फिर से कोशिश करें. मेरी बच्ची उन्हें देखने के लिए पागल हो रही है."

दक्षिण अफ्रीका के प्रेस एसोसिएशन के मुताबिक सेना में लेफ्टिनेंट जनरल जोलानी मबांगू ने बताया कि जब मंडेला का पार्थिव शरीर उनके पैतृक स्थल ले जाया जाएगा तो उनके साथ मदीबा परिवार के लोग और वरिष्ठ सरकारी अधिकारी होंगे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे क्लिक करें फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.