BBC navigation

लीबिया में भारतीय मूल के प्रोफ़ेसर की हत्या

 रविवार, 8 दिसंबर, 2013 को 11:38 IST तक के समाचार

संघर्ष के दौर से गुजर रहे लीबिया में भारतीय मूल के एक प्रोफ़ेसर मोहम्मद नज़ीमुद्दीन की लीबिया के बेंगाज़ी शहर में शुक्रवार को हत्या कर दी गई.

भारतीय मूल के कई प्रोफ़ेसर लीबिया के विश्वविद्यालयों में पढ़ाते हैं. ऐसे में उनकी सुरक्षा को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं.

नज़ीमुद्दीन के रिश्तेदार बशीर अहमद ने बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा को बताया, "मोहम्मद नज़ीमुद्दीन बेंगाजिया यूनीवर्सिटी में अंग्रेजी के प्राध्यापक थे. वो लीबिया में पिछले चार साल से थे."

उन्होंने बताया कि जानकारी के मुताबिक हत्यारों का मकसद क्लिक करें लूट करना था. नज़ीमुद्दीन ने शुक्रवार की रात करीब 10 बजे भारत में अपने रिश्तेदारों से फोन पर बात की और उसके करीब ढेड़ घंटे बाद यह दुर्घटना हो गई.

मूल रूप से हैदराबाद के रहने वाले प्रोफ़ेसर नज़ीमुद्दीन बेंगाजी में अकेले रहते थे.

माहौल हुआ खराब

इस मामले में क्लिक करें लीबिया की सरकार की ओर से अभी तक उनके परिवार को कोई जानकारी नहीं दी गई है, हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय ने उनके परिवार से बात की है.

बशीर अहमद ने बताया कि विदेश मंत्रालय में अधिकारी आनंद सिंह से बात की है और उन्हें कहा है कि वो इस मामले को देख रहे हैं.

लीबिया में प्राध्यापक रह चुकी अंजनी तिवारी ने बताया कि अभी तो वहां माहौल बहुत खराब है. लेकिन पहले भारतीयों की वहां बहुत इज्जत थी. लीबिया में हमने कभी लूट मार नहीं देखी थी. बहुत ही सुरक्षित था. हम 11 बजे रात में भी अपनी वेशभूषा में बहुत आराम से रह सकते थे.

उन्होंने बताया कि गद्दाफ़ी को अपदस्थ करने के बाद वहां माहौल तेज़ी से ख़राब हुआ है. अंजनी तिवारी 2011 में लीबिया से वापस आ गई थीं.

उन्होंने बताया, "अब वहां लोगों के पास हथियार होना आम बात हो गई है. वहां रहने वाले लोग बताते हैं कि कभी तो माहौल बहुत अच्छा हो जाता है और कभी एकदम से बिगड़ जाता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप क्लिक करें यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.