BBC navigation

मेरे पति की हत्या का दोषी इसराइल नहीं : सूहा अराफ़ात

 गुरुवार, 7 नवंबर, 2013 को 23:09 IST तक के समाचार
यासिर अराफ़ात, सूहा अराफ़ात

यासिर अराफ़ात की विधवा का कहना है कि वैज्ञानिक जांच से साफ़ है कि उनके पति की हत्या की गई थी. सूहा अराफ़ात ने बीबीसी से बातचीत में यह भी कहा कि सुबूतों के ज़रिए वैज्ञानिक कोर्ट में इसकी तसदीक करने को तैयार हैं.

यासिर अराफ़ात की विधवा ने साफ़ कहा कि वे अपने पति की कथित हत्या के लिए इसराइल को दोषी मानने को भी तैयार नहीं हैं.

सूहा अराफ़ात ने बीबीसी से बातचीत में कहा है जिन स्विस वैज्ञानिकों ने यह रिपोर्ट तैयार की है, उन्होंने उन्हें बताया है कि वे अदालत जाने को तैयार हैं.

वैज्ञानिकों की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अराफ़ात के शव के अवशेषों में रेडियोएक्टिव तत्व पोलोनियम-210 के सामान्य से 18 गुना ज़्यादा स्तर का पता चला है.

सूहा अराफ़ात कहती हैं कि उन्हें इस बात पर कोई संदेह नहीं कि उनके पति को ज़हर दिया गया था, जिसकी वजह से उनकी मौत हुई.

सूहा ने कहा, ‘असल में रिपोर्ट पूरी तरह सही है और मैंने ख़ुद कुछ जांच और उस पर उठे संदेहों को जाना है और यहां हम स्विस वैज्ञानिकों की बात कर रहे हैं. स्विस लोग इस मामले में बेहद सही लोग हैं और हमने उनसे पूछा कि क्या वे अपनी जांच के साथ अदालत में यह कहने को तैयार हैं कि यह एक क़त्ल और हत्या थी. उन्होंने कहा कि बिल्कुल हम अदालत में यह साबित कर सकते हैं कि यह हत्या ही थी.’

'इसरायल ज़िम्मेदार नहीं'

सूहा अराफ़ात ने यह भी कहा कि वे इस हत्या के लिए किसी को सीधे तौर पर ज़िम्मेदार नहीं ठहरा सकतीं क्योंकि उनके दुनिया में बहुत दुश्मन थे. सूहा ने इसराइल को ज़िम्मेदार ठहराने से भी इनकार कर दिया.

उन्होंने बीबीसी से कहा, ‘मैं किसी को दोषी नहीं ठहरा सकती. हर कोई इसराइल को ज़िम्मेदार ठहराना चाहता है- मैं ऐसा नहीं कर सकती. मैं अचानक किसी नतीजे पर नहीं जाना चाहती. चूंकि फ़िलहाल यह मामला फ़्रांसीसी न्यायक्षेत्र में है. मैं इस अपराध को दर्ज करवाना चाहती थी. असल में मैं इस अपराध को इतिहास में दर्ज कराना चाहती हूं.’

सूहा ने यासिर अराफ़ात की कथित हत्या की तुलना पूर्व रूसी ख़ुफ़िया एजेंट एलेक्सांद्र लिटविनेंको से की, जिनकी 2006 में पोलोनियम-210 ज़हर की वजह से लंदन में हत्या हो गई थी.

सूहा अराफ़ात ने कहा कि उनके पति के मामले में लिटविनेंको को दिए गए ज़हर की मात्रा उनके पति को दिए गए ज़हर से बहुत ज़्यादा थी.

सूहा अराफ़ात ने कहा, ‘कुछ लोग कहेंगे कि अराफ़ात के लक्षण लिटविनेंको जैसे नहीं थे. मैं यहां कुछ ख़ास कहना चाहती हूं कि लिटविनेंको को पोलोनियम की बहुत ज़्यादा डोज़ दी गई थी, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई थी.’

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.