BBC navigation

सीरिया में रेड क्रॉस के कार्यकर्ताओं का अपहरण

 सोमवार, 14 अक्तूबर, 2013 को 04:24 IST तक के समाचार
रेड क्रॉस

रेड क्रॉस का कहना है कि उसके कार्यकर्ता मानवीय मदद पहुँचाने के कामों में लगे थे.

रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति (आईसीआरसी) के मुताबिक उत्तर-पश्चिमी सीरिया में हथियारबंद लड़ाकों ने उसके छह कार्यकर्ताओं और रेड क्रीसेंट के एक कार्यकर्ता का अपहरण कर लिया है.

आईसीआरसी के प्रवक्ता के मुताबिक अपहरणकर्ताओं से उसका कोई संपर्क नहीं हुआ है.

इससे पहले सीरियाई मीडिया की रिपोर्टों में बताया गया था कि इदलिब प्रांत में सिरमिन और साराकेब के बीच यात्रा कर रही रेड क्रॉस की टीम पर हमला किया गया है.

आईसीआरसी का कहना है कि उसे सीरिया के हिंसा प्रभावित इलाक़ों में मदद पहुँचाने के दौरान दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

आईसीआरसी के प्रवक्ता इवान वॉटसन ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया, "मैं इस बात की पुष्टि करता हूँ कि आईसीआरसी के छह कार्यकर्ताओं और रेड क्रिसेंट के एक अरब मूल के स्वयंसेवक का इदलिब में अपहरण कर लिया गया है."

उन्होंने कहा, "हम प्रभावित लोगों को मानवीय सहायता पहुँचाने में जुटी इस टीम के सदस्यों की तुरंत रिहाई की माँग करते हैं. हम दोनों पक्षों को मानवीय मदद मुहैया कराते हैं."

हालाँकि उन्होंने अपहरण किए गए कार्यकर्ताओं की राष्ट्रीयता या पहचान के बारे में कोई जानकारी नहीं दी. माना जा रहा है कि अपहरण किए गए कार्यकर्ताओं में स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय सदस्य शामिल हैं जो मुख्यतः चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराने के काम में लगे थे.

मदद

इससे पहले सीरिया की सरकारी समाचार एजेंसी साना ने एक अज्ञात अधिकारी के हवाले से कहा था कि पहले आईसीआरसी के काफ़िले पर हमला किया गया और फिर अपहरण किए गए कार्यकर्ताओं को एक अज्ञात स्थान पर ले जाया गया.

सीरिया

सीरिया में पिछले दो साल से गृह युद्ध चल रहा है.

हालाँकि आईसीआरसी के प्रवक्ता ने फायरिंग की पुष्टि नहीं की. उन्होंने बतायआ कि टीम के वाहन भी लापता हैं.

उन्होंने कहा कि टीम के वाहनों पर रेड क्रॉस का प्रतीक चिन्ह लगा था जो किसी भी दृष्टि से धार्मिक चिन्ह नहीं है.

अभी यह साफ नहीं हो सका है कि अपहरण की इस वारदात को किसने अंजाम दिया. हालाँकि सीरिया के सरकारी टीवी ने इसे 'हथियारबंद चरमपंथियों' की कार्रवाई बताया है.

सरकारी मीडिया विद्रोहियों के लिए आमतौर पर इसी संज्ञा का इस्तेमाल करती है.

बेरूत स्थिति बीबीसी संवादादाता जिम मुइर के मुताबिक इस इलाक़े में कट्टरपंथी इस्लामी विद्रोहियों की उपस्थिति है.

सीरिया में मार्च 2011 से जारी विद्रोह में अब तक एक लाख से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

इसी महीने संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि सीरियाई में गृह युद्ध के कारण साल 2014 तक करीब अस्सी लाख लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.