करीब चार साल बाद ईरान में खुले फ़ेसबुक-ट्विटर

  • 17 सितंबर 2013
 ईरान में फेसबुक

ईरान में इंटरनेट यूज़र्स का कहना है कि वो साल 2009 के बाद पहली बार सोशल मीडिया वेबसाइट फ़ेसबुक और ट्विटर खोल पा रहे हैं.

वर्ष 2009 में ईरान सरकार के खिलाफ़ फ़ेसबुक और ट्विटर पर विरोध होने के बाद ये दोनों वेबसाइट ईरान में बैन कर दी गई थीं.

कई इंटरनेट यूज़रों का कहना है कि सोमवार को वो बिना किसी विशेष सॉफ्टवेयर के फ़ेसबुक और ट्विटर का प्रयोग कर पा रहे थे.

हालांकि ईरान की सरकार की तरफ से इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है.

ईरान की एक समाचार एजेंसी ‘मेहर’ का कहना है कि तकनीकी गड़बड़ी की वजह से लोग ये वेबसाइट खोल पा रहे हैं.

ईरान के नए राष्ट्रपति हसन रूहानी ने इंटरनेट पर पाबंदियां कम करने का वादा किया है. वो खुद भी ट्विटर इस्तेमाल करते हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, नागरिक अधिकार संगठन, ‘इलेक्ट्रॉनिक फ्रंटियर फ़ाउंडेशन’ की जिलियन यॉर्क ने कहा कि उन्हें कई नागरिकों से रिपोर्टें मिली है कि अलग-अलग इंटरनेट कनेक्शनों के ज़रिए लोग दोनों वेबसाइटें खोल पा रहे हैं.

फ़ेसबुक-ट्विटर वाकई हुए अनब्लॉक?

उन्होंने कहा, “ब्लॉक की गईं कई अन्य वेबसाइटें भी कह रही हैं कि उन्हें अनब्लॉक कर दिया गया है. राष्ट्रीय ईरानी अमरीकी परिषद का भी कहना है कि उनकी वेबसाइट अनब्लॉक कर दी गई है.”

वर्ष 2009 में महमूद अहमदीनेजाद को ईरान का दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने के बाद कई संगठनों ने विरोध के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया, जिसके बाद फ़ेसबुक और ट्विटर को ईरान में ब्लॉक कर दिया गया था.

सितंबर की शुरुआत में यहूदी नववर्ष के मौके पर रूहानी और विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ़ ने ट्विटर पर यहूदियों को शुभकामनाएं दी थी.

नए राष्ट्रपति हसन रूहानी के अधिकारियों ने भी सोशल मीडिया के प्रति नरमी के संकेत दिए हैं.

(बीबीसी हिन्दी का एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)