BBC navigation

'भूत भगाने वाली' वो तीन अमरीकी लड़कियां

 बुधवार, 11 सितंबर, 2013 को 19:56 IST तक के समाचार
भूत भगाने वाली लड़कियां

ब्रायेन लार्सन, टैस शर्केनबेक और सवाना शर्केनबेक आम अमरीकी लड़कियों की तरह हैं. उन्हें मार्शल आर्ट और घुड़सवारी का शौक है.

लेकिन एक बात उन्हें दूसरी किशोरियों से अलग करती है. एरिज़ोना की ये लड़कियां "भूत भगाने में" माहिर हैं और वो अकसर आपको टीवी चैट शो में दिख जाएंगी.

अठारह साल की ब्रायन की मुलाक़ात आठ साल पहले टैस और सवाना से कराटे की एक क्लास के दौरान हुई थी.

यहीं से उनकी दोस्ती गहरी हुई और तीनों अब ब्लैक बेल्टधारी हैं. लेकिन उन्होंने न केवल इंसानी दुश्मनों से लड़ने के गुर सीखे बल्कि भूतों को भगाने की कला भी सीखी.

उनका मानना है कि भूत किसी इंसान के शरीर में घुसकर उसके लिए मुश्किलें पैदा कर सकते हैं.

ब्रायेन ने कहा, "भूत किसी के भी शरीर में नहीं घुस सकते क्योंकि भगवान उन्हें ऐसा करने से रोकते हैं. अगर कोई कुछ गलत काम करता है या किसी पर कोई जादूटोना किया जाता है तो भूत उसे अपने वश में कर लेता है."

भूत भगाने वाली लड़कियां

भूत भगाने के गुर

ब्रायेन के पिता बॉब लार्सन ने तीनों सहेलियों को भूत भगाने के गुर सिखाए. लार्सन का दावा है कि उन्होंने 15 हज़ार से ज़्यादा बार भूत भगाने का काम किया है.

लार्सन के साथ इन लड़कियों ने क्लिक करें अमरीका और क्लिक करें ब्रिटेन सहित दुनियाभर में भूत भगाने का काम कर चुकी हैं.

संगीत और क़िताबों को प्यार करने वाली 18 साल की टैस कहती हैं, "हर देश में अलग-अलग तरह के भूत होते हैं."

उन्होंने कहा कि क्लिक करें जेके रोलिंग की हैरी पॉटर सिरीज़ की क़िताबों की लोकप्रियता के कारण ब्रिटेन में जादू-टोना बहुत होता है.

ये लड़कियां खुद को लोगों की आज़ादी के लिए काम करने वाली कार्यकर्ता मानती हैं.

''भूत भगाने'' की प्रक्रिया के दौरान वे पवित्र क्रॉस पहनती हैं और क्लिक करें बाइबिल को पास में रखती हैं.

शो के दौरान इन लड़कियों का किसी जानी मानी हस्ती की तरह स्वागत किया जाता है और ''वे भूतों को नर्क में भेजने'' का दावा करती हैं.

ईश्वर की शक्ति

"लड़कियों को शराब पिलाने और उनके साथ यौन संबंध बनाने को तो आप उचित मानते हैं लेकिन उन्हें भगवान का काम करने की शिक्षा देने को अनुचित मानते हैं."

बॉब लार्सन, ब्रायेन लार्सन के पिता

लेकिन ब्रायेन इसे मंच पर किया जाने वाला शो नहीं मानती हैं. उन्होंने कहा, "ईमानदारी से कहूं तो मैंने कभी इसे शो की तरह नहीं लिया, मैं तो इसे भगवान की शक्ति मानती हूं. हम कैमरों के लिए यह काम नहीं करते हैं. मैंने निजी तौर पर भूतों की मौजूदगी को महसूस किया है."

लार्सन इन आलोचनाओं का खंडन करते हैं कि लड़कियों को भूत भगाने की कला सिखाना ख़तरनाक है.

उन्होंने कहा, "लड़कियों को शराब पिलाना और उनके साथ यौन संबंध बनाने को आप उचित मानते हैं लेकिन उन्हें भगवान का काम करने की शिक्षा देने को अनुचित मानते हैं."

उनकी टीम भूत भगाने के लिए कुछ सौ डॉलर या यूरो मांगती है. लार्सन इस बात से सहमत नहीं हैं कि ऐसी सेवाएं निशुल्क होनी चाहिए.

उन्होंने कहा, "लोग नशामुक्ति केन्द्र और मनोचिकित्सकों को हज़ारों डॉलर देते हैं लेकिन आध्यात्मिक सेवाएं मुफ्त में लेना चाहते हैं. अमरीका में एक पादरी हर साल क़रीब दस लाख डॉलर की कमाई करता है लेकिन उनके मुक़ाबले हमारी कमाई कुछ भी नहीं है."

प्राचीन प्रथा

भूत भगाने वाली लड़कियां

भूत भगाने की प्रथा प्राचीन समय से चली आ रही है और सभी धर्मों में लोग भूत प्रेतों में विश्वास रखते हैं.

लार्सन कहते हैं कि भूत भगाने से पहले वो पीड़ित व्यक्ति को मनोचिकित्सा के सवालों से जुड़ी एक प्रश्नावली भरने को देते हैं ताकि इस बात का पता लगाया जा सके कि उसे कोई मानसिक परेशानी तो नहीं है.

उनका कहना है कि मानसिक रोगी को इलाज और मनोवैज्ञानिक समर्थन की अहम ज़रूरत होती है.

टैस, सवाना और ब्रायेन ने घर में ही पढ़ाई की है. ब्रायेन के पिता का काम ऐसा है कि उनका परिवार ज़्यादातर समय घर से बाहर ही रहता है.

ब्रायेन ने कहा, "मैं 20 से अधिक देशों की यात्रा कर चुकी हूं. ऐसे में मुझे स्कूल जाने का समय ही नहीं मिलता था. मैंने घर में ही पढ़ाई की है."

ब्रायेन और टैस ने इस साल कॉलेज में दाखिला लिया है जबकि सवाना पहले से ही कॉलेज जा रही हैं.

पढ़ाई के साथ-साथ वे भूतों को भगाने की अपनी लड़ाई को भी जारी रखना चाहती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.