BBC navigation

दस साल तक तीन महिलाओं को बंधक बनाने वाले कास्त्रो की मौत

 बुधवार, 4 सितंबर, 2013 को 17:08 IST तक के समाचार
एरिअल कास्त्रो

इस मामले का पता इस साल मई में चला था

अमरीका के ओहायो के क्लीवलैंड में तीन महिलाओं को दस साल तक घर में बंधक बनाकर रखने के दोषी एरिअल कास्त्रो जेल के अपने कमरे में लटके हुए पाए गए.

जेल अधिकारियों ने बताया कि उनकी मौत अस्पताल में हुई. जेल के चिकित्सा अधिकारी उन्हें बचा पाने में सफल नहीं हो पाए थे.

कास्त्रो ने तीन महिलाओं को अपने घर में क़रीब एक दशक तक क्लिक करें बंधक बना कर रखा था. वे इन महिलाओं को क्लिक करें ज़ंजीर से बांधकर रखते थे और उनके साथ बलात्कार करते थे.

इस साल एक अगस्त को उन्हें बिना पैरोल के उम्रकैद और एक हज़ार साल के क्लिक करें कारावास की सज़ा सुनाई गई थी.

जिस घर में कास्त्रो ने महिलाओं को बंधक बनाया था उसे गिरा दिया गया था.

रास्ते से अपहरण

53 साल के कास्त्रो पहले स्कूल बस चलाते थे. उन्होंने 32 साल की मिशेल नाइट, 27 साल की अमांडा बेरी और 23 साल की जिना डिजीसस को साल 2002 से 2004 के बीच अगवा किया था.

ओहायो पुनर्वास और सुधार विभाग की प्रवक्ता जोएलन स्मिथ ने कहा, "उन्हें रक्षात्मक हिरासत में रखा गया था यानी कि वो एक कमरे में अकेले थे और हर 30 मिनट में निगरानी की जाती थी."

"कास्त्रो जैसे लोग जो कि दूसरों को गुलाम बनाते हैं, उनके लिए दुनिया में कोई जगह नहीं है"

माइकल रूसो, न्यायाधीश

जोएलन स्मिथ ने कहा, ''कास्त्रों को लटका हुआ देखने पर जेल के चिकित्साकर्मियों ने उनकी जान बचाने की कोशिश की. थोड़ी देर बाद उन्हें जेल के अस्पताल में ले जाया गया जहां उन्हें रात 10: 52 बजे मृत घोषित कर दिया गया.''

जोएलन स्मिथ का कहना है कि इस पूरी घटना की जांच की जा रही है.

इस मामले की गंभीरता को देखते हुए कास्त्रो को रक्षात्मक हिरासत में रखा गया था लेकिन उन पर आत्महत्या वाली निगरानी नहीं रखी जा रही थी.

जिना डीजिसस जब ग़ायब हुईं तब उनकी उम्र 14 साल थी. अमांडा बेरी 16 साल और मिशेल नाइट को 21 साल की उम्र में अगवा किया गया था.

अमांडा बेरी को कास्त्रो से एक बच्चा भी हुआ. अमांडा ने इस साल छह मई को किसी तरह उस घर का दरवाज़ा तोड़कर पुलिस से संपर्क किया था.

बुरी लत

एरिअल कास्त्रो ने इनका अपहरण किया था

कास्त्रो ने तीनों लड़कियों को साल 2002 से 2004 के बीच अगवा किया था.

कास्त्रो को भी उसी दिन गिरफ्तार कर लिया गया था. उन पर अपहरण, बलात्कार और हत्या जैसे आरोप लगाए गए थे.

जिस समय कास्त्रो को सज़ा सुनाई गई उन्होंने अदालत से कहा था,'' मैं कोई हिंसक शिकारी नहीं हूँ. मैं कोई राक्षस नहीं हूँ. मैं एक सामान्य आदमी हूं, मैंने जो भी किया वह सेक्स से वशीभूत होकर किया.''

उन्होंने कहा, '' मैं एक बीमार व्यक्ति हूँ. मेरी एक बुरी लत है, ठीक उसी तरह जैसे एक शराबी की होती है.''

उन्होंने कहा कि महिलाओं के अपहरण की योजना उन्होंने कभी नहीं बनाई. लेकिन अपनी पहली शिकार के अपहरण ने उन्होंने प्रोत्साहित किया. उन्होंने अपने किए ''सभी कामों के लिए माफ़ी मांगी.''

कास्त्रो को 937 आरोपों का दोषी पाया गया. अभियोजन पक्ष से समझौते की वजह से उन्हें हत्या के आरोप के लिए संभावित मौत की सज़ा नहीं हुई थी.

सज़ा सुनाते हुए न्यायाधीश माइकल रूसो ने कहा कि कास्त्रो जैसे लोग जो कि दूसरों को गुलाम बनाते हैं, उनके लिए दुनिया में कोई जगह नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.