ब्रिटेन: पोर्न देखना है तो बताना होगा

  • 18 अगस्त 2013
प्रधानमंत्री कैमरन ने पॉर्नोग्राफ़ी पर रोक संबंधी नए क़दमों की घोषणा की है

ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि जब तक इंटरनेट ग्राहक ख़ुद ऑनलाइन पोर्नोग्राफ़ी देखने की इच्छा न व्यक्त करें ब्रिटेन के ज़्यादातर घरों में ऑनलाइन पोर्नोग्राफ़ी बंद कर दी जाएगी.

इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने ये भी कहा है कि स्कॉटलैंड की तरह ब्रिटेन और वेल्स में बलात्कार दिखाने वाली पोर्न सामग्री ग़ैर-क़ानूनी मानी जाएगी. कैमरन ने कहा है कि ऑनलाइन पोर्नोग्राफ़ी से बचपन नष्ट हो रहा है.

ये नई नीति वर्तमान और नए दोनों ही क़िस्म के इंटरनेट उपभोक्ताओं पर लागू होगी. कैमरन ने जिन क़दमों का ऐलान किया है. उनके तहत इंटरनेट खोज से जुड़े कुछ “घृणित” शब्दों को भी काली सूची में डाला जाएगा. इसका मतलब ये है कि इन शब्दों के ज़रिए खोज करने पर गूगल या बिंग जैसे किसी भी सर्च इंजन पर कोई भी वेब नतीजा नहीं आएगा.

बीबीसी के साथ विशेष बातचीत में कैमरन ने कहा कि उन्हे इंटरनेट सेवा प्रदाताओं के साथ “खींचतान” की पूरी आशंका थी. कैमरन के मुताबिक़ इंटरनेट सेवा प्रदाताओं की 'नैतिक ज़िम्मेदारी' होने के बावजूद वे 'ज़िम्मेदारी लेने के लिए समुचित क़दम नहीं उठा रहे हैं'.

डेविड कैमरन ने चेतावनी दी है कि उन्हे क़ानून में बदलाव करके इसका “जबरन क्रियान्वयन” करना पड़ सकता है और अगर इस दिशा में कोई “तकनीकी परेशानी” है तो उसे दूर करने के लिए कंपनियों को अपने “प्रतिभाशाली लोगों” का इस्तेमाल करना चाहिए.

'मासूमियत' के हक़ में

सर्च इंजनों को ग़ैर क़ानूनी सामग्री रोकने के लिए नए क़दम उठाने होंगे

भाषण में डेविड कैमरन ने कहा कि सभी नए इंटरनेट ग्राहकों के लिए इस साल के अंत तक पारिवारिक फ़िल्टर अपने-आप ही काम करने लगेंगे जब तक कि उन्हें बंद ना कर दिया जाए.

कैमरन ने कहा, “मैं हमारे बच्चों की मासूमियत पर इंटरनेट के प्रभाव की बात करना चाहता हूँ. किस तरह से ऑनलाइन पोर्नोग्राफ़ी बचपन नष्ट कर रही है और कैसे इंटरनेट की कुछ स्याह सच्चाइयाँ हमारे बच्चों के लिए ख़तरा हैं और हमें इनसे छुटकारा पाना ही होगा.”

वर्तमान उपभोक्ताओं से इंटरनेट प्रदाता ख़ुद संपर्क करेंगे और जानकारी देंगे कि वे पारिवारिक फ़िल्टर का उपयोग करने या ना करने के बीच चुनाव कर सकते हैं ताकि वयस्क सामग्री पर रोक लगाई जा सके.

ये फ़िल्टर निजी और सार्वजनिक वाई-फ़ाई नेटवर्क से जुड़े उन सभी उपकरणों पर समान रूप से लागू होंगे जो बच्चों की पहुंच के भीतर हैं.

कैमरन ने कहा, “मैं ये भाषण इसलिए नहीं दे रहा हूं क्योंकि मैं नैतिक शिक्षा देना या डराना चाहता हूं बल्कि इसलिए कह रहा हूं क्योंकि एक नेता और एक पिता के तौर पर मैं गंभीरता से सोचता हूं कि इस दिशा में क़दम उठाने का ये सही वक्त है. ये हमारे बच्चों और उनकी मासूमियत बचाने की कोशिश है.”

कठोरता से लागू

बाल-शोषण और ऑनलाइन सुरक्षा केन्द्र को ज़्यादा ताकत दी जाएगी

बाल शोषण और ऑनलाइन सुरक्षा केन्द्र को मिलने वाली राशि में कटौती के लिए आलोचना झेल रहे कैमरन ने ज़ोर दिया है कि इस केन्द्र के विशेषज्ञों और पुलिस के पास तकनीकी बदलावों से क़दमताल करने के लिए पूरी ताक़त होगी.

इंटरनेट सर्च इंजन गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा है कि “बाल-यौन शोषण दिखाने वाली तस्वीरें बिल्कुल ना बर्दाश्त करने की हमारी नीति है. हमें जब भी ऐसी किसी चीज़ का पता चलता हैं हम तुरंत उसे हटाते हैं या रिपोर्ट करते हैं.”

हालांकि बीबीसी तकनीकी संवाददाता रोरी कैटलेन जोन्स के मुताबिक़ जानकार मानते हैं कि डिफॉल्ट फ़िल्टर का प्रयोग एक ख़तरनाक आत्म-संतुष्टि को जन्म दे सकता है. साथ ही इंटरनेट सेवा प्रदाता इन नए क़दमों की प्रधानमंत्री कैमरन की व्याख्या का भी विरोध करेंगे.

बलात्कार संबंधी पोर्न सामग्री का विरोध करने वाले महिला संगठनों ने इन क़दमों का स्वागत किया है. ब्रिटेन की सबसे बड़ी इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों ने फ़िल्टर योजना के लिए हामी भरी है. इसका मतलब है कि इससे करीब 95 फीसदी घरों पर असर होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)