स्नोडेन के पिता चाहते हैं बेटे की सशर्त वापसी

  • 28 जून 2013
स्नोडेन ने दक्षिण अमरीकी देश इक्वाडोर से शरण देने की मांग की है

अमरीका में खुफिया जानकारी सार्वजनिक करने वाले सीआईए के पूर्व कर्मचारी एडवर्ड स्नोडेन के पिता का मानना है कि यदि अमरीकी सरकार कुछ शर्तें मान ले तो उनके बेटे को अमरीका वापस आ जाना चाहिए.

एनबीसी को दिए एक साक्षात्कार के दौरान एडवर्ड स्नोडेन के पिता लॉन स्नोडेन ने कहा कि यदि उनके बेटे को मुकदमा चलाने से पहले गिरफ्तार नहीं किया जाता तो उनकी वापसी हो सकती है.

साथ ही उनकी ये भी शर्त है कि एडवर्ड स्नोडेन को ये चुनने का अधिकार मिले कि उस पर मुकदमा कहां चलाया जाए.

लॉन स्नोडेन का कहना है कि उनके वकील ने अमरीकी अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर तक इन शर्तों को पहुंचा दिया था.

एडवर्ड स्नोडेन पर अमरीका में जासूसी के आरोप हैं. स्नोडेन पिछले हफ्ते मॉस्को चले गए थे और उन्होंने इक्वाडोर की सरकार से शरण देने की मांग की है.

साक्षात्कार के दौरान लॉन स्नोडेन ने बताया कि अप्रैल से उनकी अपने बेटे से कोई बातचीत नहीं हुई है.

देशद्रोही नहीं हैं स्नोडेन

लॉन स्नोडेन के मुताबिक उनके बेटे ने कानून जरूर तोड़ा है लेकिन वो देशद्रोही नहीं है.

उनका कहना था, “इस समय मैं ये मानता हूं कि मेरे बेटे ने देश से गद्दारी नहीं की है. दरअसल उसने कुछ सूचनाएं सार्वजनिक करके सिर्फ अमरीकी कानून का उल्लंघन किया है.”

स्नोडेन पर खुफिया सूचनाएं सार्वजनिक करने का आरोप है

उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि उनके बेटे का विकीलीक्स ने शोषण किया. विकीलीक्स ने तीस वर्षीय एडवर्ड स्नोडेन को कानूनी सहायता मुहैया कराने की पेशकश की है.

एडवर्ड स्नोडेन मॉस्को जाने से पहले गत 20 मई को हॉन्गकॉन्ग चले गए थे. लेकिन इस मामले ने तब राजनीतिक तूल पकड़ लिया जब अमरीका ने चीन पर स्नोडेन को हॉन्गकॉन्ग जाने की अनुमति देने का आरोप लगाया.

जबकि हॉन्गकॉन्ग के अधिकारियों का कहना था कि अमरीका ने स्नोडेन की गिरफ्तारी संबंधी जो कागज दिया था उसमें कुछ तकनीकी खामियां थीं, इसलिए स्नोडेन को रोकने का कोई तुक नहीं था.

चीन ने भी अमरीका पर साइबर सुरक्षा को लेकर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया है.

इस बीच इक्वाडोर का कहना है कि उसे अभी तक स्नोडेन की ओर से शरण माँगने संबंधी कोई प्रार्थना पत्र नहीं मिला है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)