BBC navigation

हज़ार पहरों में क्यों है ऑर्किड का एक फूल?

 गुरुवार, 16 मई, 2013 को 12:12 IST तक के समाचार

दुलर्भ प्रजाति के आर्केड के लिए प्रदर्शनी के दौरान ख़ास इंतज़ाम

ब्रिटेन में दुर्लभ हो चुके फूल लेडी स्लिपर ऑर्किड को चेल्सी में फूलों की एक प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया जाएगा. इस दौरान इस ख़ास फूल के साथ चौबीसों घंटे निजी सुरक्षा गार्ड तैनात होंगे.

इस फूल के बारे में कहा जा रहा था कि यह लुप्त हो चुका है लेकिन इसे यॉर्कशर में 1930 के दशक में देखा गया था.

इसके बाद वैज्ञानिकों ने काफी कोशिशों के बाद इस फूल को फिर से उगाने में सफलता हासिल की है, लिहाजा इसके संरक्षण को लेकर काफी कोशिशें की जा रही हैं.

"जब आपके बगीचे में ब्रिटेन का सबसे दुर्लभ फूल मौजूद हो तो आपको उसकी सुरक्षा तो करनी ही पड़ेगी."

गैरी वैरिटी, प्रदर्शनी के मुख्य अधिकारी

फूलों की ये प्रदर्शनी टूरिज्म को बढ़ावा देने वाली संस्था वेलकम टु यॉर्कशर की प्रदर्शनियों का हिस्सा है.

सुरक्षा के इंतज़ाम

इस दौरान लेडी स्लिपर ऑर्किड की देखरेख करने का जिम्मा विशेषज्ञों की एक टीम को सौंपा गया है.

कार्यक्रम के मुख्य अधिकारी गैरी वैरिटी ने बताया, “जब आपके बगीचे में ब्रिटेन का सबसे दुर्लभ फूल मौजूद हो तो आपको उसकी सुरक्षा तो करनी ही पड़ेगी.”

वैरिटी के मुताबिक इस फूल के प्रदर्शन से लोगों को दुर्लभ प्रजातियों के फूल-पौधों को संरक्षित करने के लिए प्रेरित किया जा सकेगा.

दक्षिण अफ्रीकी ऑर्किड एक्सपर्ट माइकल टिब्बस ने बताया कि ये फूल कहां से मिला था, इसे गोपनीय रखा गया है.

सौ साल की प्रदर्शनी

माइकल टिब्बस ने बताया, “ये दुर्लभ फूल कहां मिलता है, इसको बेहद कम लोग जानते हैं, ये काफी दुर्लभ प्रजाति है इसलिए अधिकारी इसे पाए जाने की जगह को सालों से गोपनीय रख रहे हैं.”

हालांकि बताया जा रहा है कि इंग्लैंड के उत्तरी हिस्से में जिसमें उत्तरी यॉर्कशर के किल्नसे पार्क एस्टेट के पास ये ऑर्किड उगाया जाता है.

किल्नसे पार्क एस्टेट के प्रबंध निदेशक जैम्मी रॉबर्टस ने बताया, “हम लोगों ने इस ऑर्किड को प्रदर्शनी में भेजने का काम पूरा कर दिखाया है. लेकिन उसकी सुरक्षा को लेकर सबसे ज़्यादा चिंता हो रही है.”

वैसे इस फूलों की प्रदर्शनी के सौ साल पूरे हो रहे हैं, लेकिन इस दौरान सबसे ज्यादा चर्चा लेडी स्लिपर ऑर्किड की सुरक्षा को लेकर ही हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमेंक्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.