BBC navigation

क्या भारतीयों को पाकिस्तान चुनाव की परवाह है ?

 शुक्रवार, 10 मई, 2013 को 10:12 IST तक के समाचार

पाकिस्तान के चुनावों में भारतीय लोगों की रुचि कुछ खास नहीं लगती

भारत और पाकिस्तान की सरकारों के बीच तना-तनी का माहौल मौसम की तरह बदलता रहता है. लेकिन पड़ोसी देश में फिलहाल चल रही क्लिक करें लोकतंत्र की बयार से दुनिया के सबसे बड़ा लोकतंत्र यानी भारत की राजनीति अछूती रहे, ऐसा तो हो नहीं सकता.

राजनीति के गलियारों से परे क्या भारत की जनता को इस बात की परवाह है कि पाकिस्तान में आने वाली सरकार का क्या प्रारूप होगा?

दिल्ली के चांदनी चौक में बीबीसी से बातचीत में ज़्यादातर लोगों ने पाकिस्तान की अस्थिरता पर चुटकी लेते हुए कहा कि भले ही पाकिस्तान में कोई भी सरकार आए, भारत के लिए परेशानी तो बनी ही रहेगी.

दिल्ली के रहने वाले एच एस नागपाल का कहना था, "क्या फर्क पड़ता है पाकिस्तान में किस तरह की सरकार बनती है. जो भी सरकार बनेगी, वो स्थिर तो रह नहीं पाएगी. सेना की कठपुतली है, उसके कहने पर ही चलेगी."

'सरकार स्थाई नहीं'

उन्हीं की तरह गुलशन ने कहा, "पाकिस्तान में सिर्फ एक ही चीज़ स्थिर रह सकती है, और वो है चरमपंथ. सिवाय चरमपंथ के वहां कुछ और नहीं फल-फूल सकता, लोकतंत्र तो कभी नहीं."

लेकिन इलाहाबाद से दिल्ली आई सुनिता आहुजा ने एक संतुलित बयान दिया.

"क्या फर्क पड़ता है पाकिस्तान में किस तरह की सरकार बनती है. जो भी सरकार बनेगी, वो स्थिर तो रह नहीं पाएगी. सेना की कठपुतली है, उसके कहने पर ही चलेगी."

एच एस नागपाल

उनका कहना था, "चूंकि पाकिस्तान में सेना के साथ-साथ न्यायपालिका भी सरकार पर हावी है, इसलिए वहां की सरकार स्थाई नहीं रह पाती है. जब तक ये स्थिति नहीं बदलती, तब तक मुझे नहीं लगता कि आने वाली सरकार भी पांच साल पूरे कर पाएगी."

भारतीय जनता के एक तबके को भले ही संदेह हो, लेकिन कुछ लोग पाकिस्तान में हो रहे क्लिक करें लोकतांत्रिक चुनाव को एक अच्छी खबर बताते हैं.

आखिर ये पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार है कि एक लोकतांत्रिक सरकार दूसरी को रास्ता दे रही है.

लेकिन विश्लेषक इस बात को याद दिलाना नहीं भूलते कि पाकिस्तान में जनतांत्रिक शासन के दौरान ही भारत-विरोधी गतिविधियां हुई हैं.

सेना का असर

पाकिस्तान में उच्चायुक्त रहे कूटनीतिक मामलों के जानकार पार्थ सारथी का कहना है कि भारत को अपनी आंख और कान खुले रखने होंगें.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "हम जानते हैं कि राष्ट्रपति ज़रदारी भारत के साथ सामान्य रिश्ते बहाल करने के बहुत ही इच्छुक थे. लेकिन कट्टरवाद को फौज का समर्थन ज्यों का त्यों है. तो हम ये समझते हैं कि अगर मुंबई में हमला हुआ, तो उसके लिए हम पाकिस्तान की सरकार को दोषी नहीं ठहरा सकते, लेकिन फौज से मिले हुए कट्टरपंथी तत्वों को ही दोष दे सकते हैं."

उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीर के शासन के दौरान हुए कारगिल युद्ध का ज़िक्र करते हुए कहा कि लोकतांत्रिक सरकार होने का मतलब ये नहीं है कि वो सशक्त ही हो.

तो फिर सवाल ये उठता है कि जिस पाकिस्तानी सेना का इतना रौब बताया जाता है, वो आगे आकर पाकिस्तान की सत्ता क्यों नहीं संभालती.

इसका सीधा जवाब देते हुए पार्थ सारथी ने कहा, "पाकिस्तान अब एक गंभीर राजनीतिक व आर्थिक स्थिति से गुज़र रहा है. सेना ने ये समझ लिया है कि वो इन समस्याओं के चलते सत्ता नहीं संभाल सकेगी. ये कहा जा सकता है कि पाकिस्तान में लोकतंत्र सिर्फ इसलिए आगे बढ़ रहा है क्योंकि सेना खुद को इन चुनौतियों का सामना करने में सक्षम नहीं समझती."

तालिबानीकरण

"पाकिस्तान अब एक गंभीर राजनीतिक व आर्थिक स्थिति से गुज़र रहा है. सेना ने ये समझ लिया है कि वो इन समस्याओं के चलते सत्ता नहीं संभाल सकेगी. ये कहा जा सकता है कि पाकिस्तान में लोकतंत्र सिर्फ इसलिए आगे बढ़ रहा है क्योंकि सेना खुद को इन चुनौतियों का सामना करने में सक्षम नहीं समझती."

जी पार्थ सारथी

उन्होंने कहा कि क्लिक करें पाकिस्तान की बागडोर चाहे नवाज़ शरीफ के हाथों आए, या इमरान खान के हाथ, दोनों ही भारत के लिए जाने-पहचाने चेहरे हैं और भारत उनके साथ संबंध कायम कर सकता है.

लेकिन पाकिस्तान में बढ़ते तालिबानीकरण पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा, "तालिबान अब प्रभावी हो गया है. हालात ये हैं कि पाकिस्तान में आज बंदूक का राज़ है और आत्मघाती हमलों का दौर है. ये वो दौर है जब कोई पार्टी अगर भारत के प्रति सार्वजनिक रूप से कोई नर्मी दिखाए तो उनकी जान को खतरा हो जाता है."

उन्होंने कहा कि भारत के लिए ये चिंता का विषय ज़रूर है लेकिन सच्चाई ये भी है कि इनसे निपटने के लिए भारत को अपनी आंतरिक सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों को मज़बूत करना होगा.

इस पूरे विषय पर विस्तार से चर्चा देखिए ईटीवी नेटवर्क पर बीबीसी हिंदी के टीवी कार्यक्रम ग्लोबल इंडिया में.

क्लिक करें ग्लोबल इंडिया हर शुक्रवार ईटीवी नेटवर्क के चैनलों पर प्रसारित किया जाता है. प्रसारण समय हैं:

शुक्रवार - शाम 6 बजे ईटीवी राजस्थान और ईटीवी उर्दू पर और शाम 8 बजे ईटीवी यूपी, ईटीवी एमपी, ईटीवी बिहार पर

शनिवार – पुन: प्रसारण – रात आठ बजे –ईटीवी उर्दू

शनिवार – पुन: प्रसारण – रात साढ़े आठ बजे– ईटीवी राजस्थान पर

शनिवार – पुन: प्रसारण – रात साढ़े नौ बजे - ईटीवी यूपी, ईटीवी एमपी और ईटीवी बिहार पर

रविवार – पुन: प्रसारण – सुबह 11.00 बजे – ईटीवी यूपी, ईटीवी एमपी, ईटीवी राजस्थान और ईटीवी बिहार पर

रविवार – पुन: प्रसारण – दोपहर 1 बजे – ईटीवी उर्दू

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.