BBC navigation

रंग-बिरंगी पट्टी से जानिए कुत्ते का स्वभाव

 रविवार, 21 अप्रैल, 2013 को 16:15 IST तक के समाचार
आवारा कुत्ते

लंदन में कुत्तों के स्वभाव से मेल खाती रंगीन पट्टी पहनाई जा रही है

लंदन के कुछ हिस्से में जिन क्लिक करें आवारा कुत्तों की घर वापसी हो रही है उनके स्वभाव का अंदाज़ा लगाने के लिए गले में ट्रैफ़िक लाइट के रंगों जैसा ही पट्टा लगाया जाएगा.

हैकनी के कुत्ता घरों में रहने वाले कुत्तों के गले में हरे, गहरे पीले और लाल रंग की पट्टी होगी. जब ऐसे कुत्ते सड़कों पर टहलते हुए नज़र आएंगे तो इन पट्टियों की वजह से अंदाज़ा लगाया जा सकेगा कि इन कुत्तों का स्वभाव कैसा है.

हैकनी काउंसिल का कहना है कि इसके 90 फ़ीसदी आवारा क्लिक करें कुत्ते स्टैफ़ोर्डशायर नर शिकारी कुत्ते हैं जो स्वभाव से उग्र माने जाते हैं. डॉग्स ट्रस्ट का कहना है कि यह बेहद प्रोत्साहन भरा क़दम है लेकिन इससे कुत्तों के स्वभाव से जुड़ी दिक़्क़तों का हल नहीं निकल सकता है.

मिलफील्ड्स रोड के कुत्ता घरों के कुत्ते, हरे रंग की पट्टी पहनेंगे जिससे अंदाज़ा होगा कि उनका स्वभाव मित्रवत है, वहीं गहरे पीले रंग की पट्टी वाले कुत्तों को देखते ही किसी को यह अंदाज़ा हो सकता है कि ऐसे कुत्ते दूसरों के साथ सहज महसूस नहीं करते.

जिन कुत्तों के गले में लाल रंग की पट्टी हो उससे अंदाज़ा होगा कि उन्हें यह बिल्कुल भी पसंद नहीं कि कोई भी उनसे छेड़छाड़ करे.

इन आवारा कुत्तों को कोट भी पहनाया जाएगा जिस पर उनकी घर वापसी का संदेश विज्ञापन के तौर पर दिया जाएगा.

काउंसिल से जुड़े अल्सटेयर स्मिथ का कहना है, “हमें ज्यादातर स्टैफ़िज़ (स्टैफ़ोर्डशायर) क्लिक करें प्रजाति के कुत्ते मिल रहे हैं और कुछ लोग इन कुत्तों को अच्छे स्वभाव का नहीं मानते हैं.”

“अगर कोई किसी पार्क में ऐसे कुत्तों के पास जाता है तो उन्हें इन्हीं पट्टी के ज़रिए अंदाज़ा हो जाएगा कि ये कुत्ते कैसे अपनी प्रतिक्रिया देंगे.”

कैसा अभियान

अवारा कुत्ते

लंदन में पिछले साल स्टैफोर्डशायर कुत्ते की प्रजाति की तादाद बढ़ी है

वर्ष 2012 के दौरान हैकनी काउंसिल ने 215 कुत्ते जुटाए थे जिनमें से 76 कुत्तों की घर वापसी हुई थी, 97 कुत्तों को उनके मालिकों के पास पहुंचाया गया था जबकि 42 कुत्तों को सुलाया था.

डॉग्स ट्रस्ट के एलविरा मेयुसी का कहना है, “यह कुत्ते के मालिकों की ज़िम्मेदारी है कि वे अपने कुत्तों को प्रशिक्षण दें और उनके स्वभाव से जुड़ी दिक़्क़तें दूर करें. इस कोशिश में ट्रैफ़िक लाइट के रंग का पट्टा पहला क़दम हो सकता है लेकिन यह कुत्तों के स्वभाव से जुड़ी दिक़्क़तों को दूर करने में कारगर नहीं होगा.”

ट्रस्ट का कहना है कि ग्रेटर लंदन में आवारा कुत्तों की तादाद में 148 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा देखा गया जबकि छोड़े गए स्टैफ़ोर्डशायर नर शिकारी कुत्तों की संख्या 2011 के 1,641 से बढ़कर 2012 में 4,071 हो गई.

लोगों का कहना है कि वे इन कुत्तों को इसलिए छोड़ रहे हैं क्योंकि उनके लिए इन कुत्तों को रखना काफ़ी महंगा साबित होगा.

वहीं ट्रस्ट का कहना है कि स्टैफ़िज़ बेहद अच्छे घरेलू कुत्ते बन सकते हैं अगर एक ज़िम्मेदार कुत्ता मालिक संजीदगी से उनकी देखभाल करे.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.